Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

रमेशराज के ‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ में 7 बालगीत

क्या है ‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ ?
—————————————–
मित्रो !
‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ , छंद शास्त्र और साहित्य-क्षेत्र में मेरा एक अभिनव प्रयोग है | इस छंद की रचना करते हुए मैंने इसे १६-१६ मात्राओं के ६ चरणों में बाँधा है, जिसके हर चरण में ८ मात्राओं के उपरांत सामान्यतः (कुछ अपवादों को छोडकर ) आयी ‘यति’ इसे गति प्रदान करती है | पूरे छंद के ६ चरणों में ९६ मात्राओं का समावेश किया गया है |
‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ की एक विशेषता यह भी है कि इसके प्रथम चरण के प्रारम्भिक ‘कुछ शब्द’ इसी छंद के अंतिम चरण के अंत में पुनः प्रकट होते हैं | या इसका प्रथम चरण पलटी खाकर छंद का अंतिम चरण भी बन सकता है |
छंद की दूसरी विशेषता यह है कि इस छंद के प्रत्येक चरण के ‘कुछ अंतिम शब्द ‘ उससे आगे आने वाले चरण के प्रारम्भ में शोभायमान होकर चरण के कथ्य को ओजस बनाते हैं | शब्दों के इस प्रकार के दुहराव का यह क्रम सम्पूर्ण छंद के हर चरण में परिलक्षित होता है | इस प्रकार यह छंद ‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ बन जाता है |
‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ में मेरा उपनाम ‘राज ‘ हो सकता है बहुत से पाठकों के लिये एतराज का विषय बन जाए या किसी को इसमें मेरा अहंकार नज़र आये | इसके लिये विचार-विमर्श के सारे रास्ते खुले हैं |
‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ पर आपकी प्रतिक्रियाओं का मकरंद इसे ओजस बनाने में सहायक सिद्ध होगा | ——र

रमेशराज के ‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ में 7 बालगीत

‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ में बालगीत-1
———————————–
” जल-संकट हो, अगर कटे वन
अगर कटे वन, सूखे सावन
सूखे सावन, सूखे भादों
सूखे भादों, खिले न सरसों
खिले न सरसों, रेत प्रकट हो
रेत प्रकट हो, जल-संकट हो | ”
(रमेशराज )

‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ में बालगीत-2
———————————–
मत मरुथल को और बढ़ा तू
और बढ़ा तू मत गर्मी-लू,
मत गर्मी-लू, पेड़ बचा रे
पेड़ बचा रे, वृक्ष लगा रे,
वृक्ष लगा रे, तब ही जन्नत
तब ही जन्नत, तरु काटे मत |
(रमेशराज )

‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ में बालगीत-3
————————————–
नटखट बन्दर छत के ऊपर
छत के ऊपर , झांके घर – घर
झांके घर – घर , कहाँ माल है ?
कहाँ माल है ? कहाँ दाल है ?
कहाँ दाल है ? मैं खाऊँ झट
मैं खाऊँ झट , सोचे नटखट | ”
(रमेशराज )

‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ में बालगीत-4
————————————-
” बबलू जी जब कुछ तुतलाकर
तुतलाकर बल खा इठलाकर ,
इठलाकर थोड़ा मुस्काते
मुस्काते या बात बनाते ,
बात बनाते तो हंसते सब
सब संग होते बबलू जी जब |
(रमेशराज )

‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ में बालगीत-5
—————————————-
” फूल – फूल पर तितली रानी
तितली रानी लगे सुहानी ,
लगे सुहानी इसे न पकड़ो
इसे न पकड़ो, ये जाती रो ,
ये जाती रो खेत – कूल पर
खेत – कूल पर फूल – फूल पर |
(रमेशराज )

‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ में बालगीत-6
—————————————
” बढ़ा प्रदूषण , खूब कटें वन
खूब कटें वन , धुंआ – धुँआ घन
धुंआ – धुँआ घन , जाल सड़क के
जाल सड़क के , मरुथल पसरे
मरुथल पसरे , तपता कण – कण
तपता कण – कण , बढ़ा प्रदूषण | ”
(रमेशराज )

‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ में बालगीत-7
———————————-
” बस्ता भारी लेकर बच्चा
लेकर बच्चा , सन्ग नाश्ता
सन्ग नाश्ता , पढ़ने जाये
पढ़ने जाये , पढ़ ना पाये
पढ़ ना पाये पुस्तक सारी
पुस्तक सारी , बस्ता भारी | ”
(रमेशराज )

——————————————-
+रमेशराज, 15/109, ईसानगर, a अलीगढ़-202001
mo.-9634551630

144 Views
You may also like:
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Mamta Rani
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आस
लक्ष्मी सिंह
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
इश्क
Anamika Singh
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...