Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 2, 2022 · 1 min read

रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)

एक मेज़ की तलब है इंतज़ार के लिए
गुजरी है इक उम्र उनके दीदार के लिए

मुमक़िन है थाह लें औकात आज अपनी
लेकर दिल हम पहुँचे हैं व्यापार के लिए

इस मुसाफ़िर को भी कोई मंज़िल मिल जाए
हम फूल ख़रीद लाए हैं इज़हार के लिए

ये क्या किये कि आ पहुँचें वो फलों के साथ
कुछ और भी ला सकते थे बीमार के लिए

वो जो झलकता रहता है उनकी हिजाब से
इतना काफ़ी है धड़कन के रफ़्तार के लिए

~विनीत सिंह

Vinit Singh Shayar

2 Likes · 2 Comments · 93 Views
You may also like:
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इच्छाओं का घर
Anamika Singh
पेड़ों का चित्कार...
Chandra Prakash Patel
एक गलती ( लघु कथा)
Ravi Prakash
उस निरोगी का रोग
gurudeenverma198
छोड़ दिए संस्कार पिता के, कुर्सी के पीछे दौड़ रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धर्म निरपेक्ष चश्मा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हम जलील हो गए।
Taj Mohammad
मैं धरती पर नीर हूं निर्मल, जीवन मैं ही चलाता...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐कलेजा फट क्यूँ नहीँ गया💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
कुछ भी ना साथ रहता है।
Taj Mohammad
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हे महाकाल, शिव, शंकर।
Taj Mohammad
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हसद
Alok Saxena
दरिंदगी से तो भ्रूण हत्या ही अच्छी
Dr Meenu Poonia
मां क्यों निष्ठुर?
Saraswati Bajpai
मैं वफ़ा हूँ अपने वादे पर
gurudeenverma198
छोटा-सा परिवार
श्री रमण
जिंदगी का काम  तो है उलझाना
Dr. Alpa H. Amin
आकाश
AMRESH KUMAR VERMA
पानी की कहानी, मेरी जुबानी
Anamika Singh
मनोमंथन
Dr. Alpa H. Amin
मुक्तक ( इंतिजार )
N.ksahu0007@writer
*चली ससुराल जाती हैं (गीतिका)*
Ravi Prakash
✍️मौत का जश्न✍️
"अशांत" शेखर
मेरी लेखनी
Anamika Singh
Loading...