Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Apr 2022 · 1 min read

रत्नों में रत्न है मेरे बापू

रत्नों में रत्न है मेरे बापू
मेरे सिर के ताज और अभिमान है मेरे बापू।।
दुनिया के हर दौलत बेकार है उनके आगे
उनसे ही हर सोहरत सकार हैं मेरे सारे
जब पिता को नहीं देखतीं हूं मन बेचैन हो उठता है
उनसे ही ‘ओ मेरे खुदा’ सुबह-शाम मेरा होता हैं
रत्नों में रत्न है मेरे बापू
मेरे मन का आस और विश्वास है मेरे बापू।।
सच और झूठ है क्या?
दुनिया के रंग-रूप हैं क्या?
हर बात से अवगत करातें हैं हमें
खुद दुःख सहकर,हर खुशियों से नवाजते हैं हमें
रत्नों में रत्न है मेरे बापू
मेरे मन का दर्पण और अर्पण है मेरे बापू।।
पिता जैसा कोई और ना होगा
उनके जैसे दुनिया हमें कोई और ना देगा
जितना चाहे हम अपने मन का कर ले मनमानी
खुशी-खुशी सह जातें हैं हमारे हर शैतानी
रत्नों में रत्न है मेरे बापू
मेरे मन का स्वाभिमान और अरमान है मेरे बापू।।

नीतू साह
हुसेना बंगरा, सीवान-बिहार

Language: Hindi
Tag: गीत
5 Likes · 4 Comments · 160 Views
You may also like:
तक़दीर की उड़ान
VINOD KUMAR CHAUHAN
सब से खूबसूरत
shabina. Naaz
एक चतुर नार
लक्ष्मी सिंह
पुरानी यादें
Palak Shreya
☀️✳️मैं अकेला ही रहूँगा,तुम न आना,तुम न आना✳️☀️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
✍️हुए बेखबर ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मैंने मना कर दिया
विनोद सिल्ला
सावन के काले बादल औ'र बदलियां ग़ज़ल में।
सत्य कुमार प्रेमी
कलम ये हुस्न गजल में उतार देता है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सुन ओ बारिश कुछ तो रहम कर
Surya Barman
"ऐनक मित्र"
Dr Meenu Poonia
माल्यार्पण (हास्य व्यंग)
Ravi Prakash
सच्चा आनंद
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
✍️✍️पुन्हा..!✍️✍️
'अशांत' शेखर
अपने किसी पद का तू
gurudeenverma198
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अभी दिल भरा नही
Ram Krishan Rastogi
नियत समय संचालित होते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रयास
Dr fauzia Naseem shad
पत्र की स्मृति में
Rashmi Sanjay
घर का ठूठ2
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
आघात
Dr. Sunita Singh
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
कर्ण और दुर्योधन की पहली मुलाकात
AJAY AMITABH SUMAN
वियोग
पीयूष धामी
नील छंद "विरहणी"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी...
Dr Archana Gupta
Loading...