Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 19, 2016 · 1 min read

रक्षा बन्धन पर्व को समर्पित पंक्तियाँ ..

रक्षा बन्धन पर्व को समर्पित…

हाँ बहन शरारती है तू
कर मदद उभारती है तू।।

बाँध नेह डोर भाई को।
आरती उतारती है तू।।

लाड़ खूब तू लड़ाती है।
प्यार से पुकारती है तू।।

पास गोद में बिठा लेती
खूब तो दुलारती है तू।।

जानता है कवि तेरी आदत
हो गलत नकारती है तू।।
“दिनेश” कवि

108 Views
You may also like:
देखो
Dr.Priya Soni Khare
दिल से निकले हुए कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
महफिल में छा गई।
Taj Mohammad
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
आजादी
AMRESH KUMAR VERMA
बुलंद सोच
Dr. Alpa H. Amin
✍️सत्ता का नशा✍️
"अशांत" शेखर
जन्म दिन की बधाई..... दोस्त को...
Dr. Alpa H. Amin
तोड़कर तुमने मेरा विश्वास
gurudeenverma198
छलकाओं न नैना
Dr. Alpa H. Amin
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
बदला
शिव प्रताप लोधी
*सोमनाथ मंदिर 【भक्ति-गीत】*
Ravi Prakash
मुकरियां __नींद
Manu Vashistha
भारत की जाति व्यवस्था
AMRESH KUMAR VERMA
बड़े पाक होते हैं।
Taj Mohammad
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
राम नाम जप ले
Swami Ganganiya
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
ज़ाफ़रानी
Anoop Sonsi
पिता
Vijaykumar Gundal
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
एक दिया अनजान साथी के नाम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नोटबंदी ने खुश कर दिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ममता की फुलवारी माँ हमारी
Dr. Alpa H. Amin
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मरते वक्त उसने।
Taj Mohammad
मां सरस्वती
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...