Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 23, 2017 · 1 min read

::::: रक्षा करो माता रानी :::::

दुनिया की माया नगरी में,
उलझ कर रह गई नश्वर काया।
हे माता! मैंने तुझे बुलाया।।

छल प्रपंच स्वार्थ ने दबोचा,
दूर हुआ अपनों का साया।
हे माता! मैंने तुझे बुलाया।।

अहंकार ने ऐसा घेरा,
मन मस्तिष्क भी है भरमाया।
हे माता! मैंने तुझे बुलाया।।

चहुंओर फैली मतलबपरस्ती,
लिपट रही है मोह-माया।
हे माता! मैंने तुझे बुलाया।।

चेहरों पर लग रहे मुखौटे,
पहचानें न अपनी ही छाया।
हे माता! मैंने तुझे बुलाया।।

यह कैसा है युग आया,
सब अपनों को किया पराया।
हे माता! मैंने तुझे बुलाया।।

हे मेरी माता तू ही कर रक्षा,
इस हाल पे मेरा दिल भर आया।
हे माता! मैंने तुझे बुलाया।।

—रंजना माथुर दिनांक 23/09/2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना.
©

327 Views
You may also like:
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
अधुरा सपना
Anamika Singh
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
तुम साथ अगर देते नाकाम नहीं होता
Dr Archana Gupta
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Ram Krishan Rastogi
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
If we could be together again...
Abhineet Mittal
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अनामिका के विचार
Anamika Singh
पिता
Satpallm1978 Chauhan
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सुन्दर घर
Buddha Prakash
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
मेरे साथी!
Anamika Singh
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
Loading...