Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2023 · 1 min read

“रंग वही लगाओ रे”

“रंग वही लगाओ रे”
प्रेम रंग में रंगो जी भरकर
गोरे-गोरे गालों को,
होने दो मदमस्त पुरवा सी
बहकी-बहकी चालों को,
करो शरारत डूब प्रणय में
फागुन मासे आयो रे,
कभी ना उतरे चढ़कर जो
रंग वही लगाओ रे…।

4 Likes · 2 Comments · 78 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Dr. Kishan tandon kranti

You may also like:
पहले क्या करना हमें,
पहले क्या करना हमें,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Chubhti hai bate es jamane ki
Chubhti hai bate es jamane ki
Sadhna Ojha
हकीकत  पर  तो  इख्तियार  है
हकीकत पर तो इख्तियार है
shabina. Naaz
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
Dr. Kishan Karigar
धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
न मिलती कुछ तवज्जो है, न होता मान सीधे का।
न मिलती कुछ तवज्जो है, न होता मान सीधे का।
डॉ.सीमा अग्रवाल
वो इँसा...
वो इँसा...
'अशांत' शेखर
पल पल का अस्तित्व
पल पल का अस्तित्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सुप्रभात गीत
सुप्रभात गीत
Ravi Ghayal
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
इश्क़ के समंदर में
इश्क़ के समंदर में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इसमें कोई दो राय नहीं है
इसमें कोई दो राय नहीं है
Dr fauzia Naseem shad
मेरुदंड
मेरुदंड
सूर्यकांत द्विवेदी
■ आज का दोहा...
■ आज का दोहा...
*Author प्रणय प्रभात*
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Sakshi Tripathi
*खाते कम हैं फेंकते, ज्यादा हैं कुछ लोग  (कुंडलिया)*
*खाते कम हैं फेंकते, ज्यादा हैं कुछ लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रंग मे रंगोली मे गीत मे बोली
रंग मे रंगोली मे गीत मे बोली
Vindhya Prakash Mishra
कान खोलकर सुन लो
कान खोलकर सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
कहां खो गए
कहां खो गए
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
शायद वो खत तूने बिना पढ़े ही जलाया होगा।।
शायद वो खत तूने बिना पढ़े ही जलाया होगा।।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इक धुँधला चेहरा, कुछ धुंधली यादें।
इक धुँधला चेहरा, कुछ धुंधली यादें।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
ये हवाएँ
ये हवाएँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
चाह
चाह
Dr. Rajiv
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
Ahtesham Ahmad
एक दिन यह समय भी बदलेगा
एक दिन यह समय भी बदलेगा
कवि दीपक बवेजा
प्यास बुझाने का यही एक जरिया था
प्यास बुझाने का यही एक जरिया था
Anil Mishra Prahari
इज़हार कर ले एक बार
इज़हार कर ले एक बार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💐प्रेम कौतुक-522💐
💐प्रेम कौतुक-522💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वो मुझ को
वो मुझ को "दिल" " ज़िगर" "जान" सब बोलती है मुर्शद
Vishal babu (vishu)
Loading...