Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 19, 2019 · 1 min read

रंगों की दुनियाँ निराली

हुलियारों की निकली टोली
सब ने तन मन रंग लिया
राधा संग किसन खेली होली
वृन्दावन रंग लिया
मिले गले , मिटा गिले शिकवे
हर कोई अपने में रंग लिया
जिसने समझी जीवन की सच्चाई
ईमान धर्म में अपने को रंग लिया

स्वलिखित
लेखक संतोष श्रीवास्तव भोपाल

125 Views
You may also like:
घड़ी और समय
Buddha Prakash
प्रकृति और कोरोना की कहानी मेरी जुबानी
Anamika Singh
ठिकरा विपक्ष पर फोडा जायेगा
Mahender Singh Hans
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
themetics of love
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चुरा कर दिल मेरा,इल्जाम मुझ पर लगाती हो (व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
लबों से मुस्करा देते है।
Taj Mohammad
प्रेम की किताब
DESH RAJ
कभी न करना उससे, उसकी नेमतों का गिला ।
Dr fauzia Naseem shad
মিথিলা অক্ষর
DrLakshman Jha Parimal
भूल कैसे हमें
Dr fauzia Naseem shad
दर्द तक़सीम कर नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Raju Gajbhiye
*मतलब डील है (गीतिका)*
Ravi Prakash
संघर्ष
Arjun Chauhan
✍️बात बात में..✍️
'अशांत' शेखर
देश की रक्षा करें हम
Swami Ganganiya
हम जिधर जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
चलो जिन्दगी को।
Taj Mohammad
कभी मिलोगी तब सुनाऊँगा ---- ✍️ मुन्ना मासूम
मुन्ना मासूम
आस्तीन के साँप
Dr Archana Gupta
अब तो इतवार भी
Krishan Singh
जनसंख्या नियंत्रण जरूरी है।
Anamika Singh
ये निम खामोशी तुम्हारी ( पूर्व प्रधान मंत्री श्री अटल...
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️खुशी✍️
'अशांत' शेखर
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
हम तेरे रोकने से
Dr fauzia Naseem shad
पहले दिन स्कूल (बाल कविता)
Ravi Prakash
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
Loading...