Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

रंगत इंसान के

किसे पता कितने रूप है बेईमान के |
पैसा देख बदलती है रंगत इंसान के |

यहाँ पैसा ही सबकुछ नहीं,बात मानो ,
कीमत तय न करो अपने ईमान के |

डर लगता है सुनसान गलियों से गुजरना ,
मुश्किल है पहचान पाना चेहरा शैतान के |

माना की आज़ादी है बोलने को यहाँ ,
पर कुछ भी न बोलो सीना तान के |

धर्म ,जाति ,भाषा को लेकर न करो फसाद ,
आओ सपना साकार करे हम हिन्दुस्तान के |

151 Views
You may also like:
रूप घनाक्षरी छंद/ मोबाइल
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
पहला प्यार
Dr. Meenakshi Sharma
“ वसुधेव कुटुम्बकंम ”
DrLakshman Jha Parimal
☀️☀️मैं ग़र चाँद हूँ तो तुम्हें चाँदनी कह दूँ☀️☀️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कहवां जाइं
Dhirendra Panchal
दीप जले है दीप जले
Buddha Prakash
About my first poem
ASHISH KUMAR SINGH
बरखा रानी तू कयामत है ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
कैसे तुम बिन
Dr. Nisha Mathur
^^अलविदा ^^
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
प्यार जैसा ही प्यारा होता है
Dr fauzia Naseem shad
कुंडलिया छंद ( योग दिवस पर)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
मैथिली भाषा/साहित्यमे समस्या आ समाधान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
इरादा
Shivam Sharma
कुछ यादें जीवन के
Anamika Singh
हो तुम किसी मंदिर की पूजा सी
Rj Anand Prajapati
चले आओ तुम्हारी ही कमी है।
सत्य कुमार प्रेमी
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"ललकारती चीख"
Dr Meenu Poonia
कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
Rajesh Kumar Arjun
कौन बुरा..? कौन अच्छा...?
'अशांत' शेखर
गजल_कौन अब इस जमीन पर खून से लिखेगा गजल
Arun Prasad
*भरे उत्साह से जो उनकी, गाथा नभ ने गाई है(मुक्तक)*
Ravi Prakash
जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
जीवन क्षणभंगुरता का मर्म समझने में निकल जाती है।
Manisha Manjari
भारत का संविधान
Shekhar Chandra Mitra
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
तुम कहते हो।
Taj Mohammad
अमृत महोत्सव
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...