Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

योग, सत्संग योग और मोक्ष

आपको अगर आध्यात्मिक ग्रंथ पढ़ने में रुचि है, तो परमसंत महर्षि मेंहीं की ‘सत्संग योग’ पढ़िए और योग कीजिए। कोई भी ‘संत’ स्थान, धर्म और काल विशेष से परे होते हैं, बावजूद बिहार, झारखंड आदि राज्यों व नेपाल, जापान आदि देशों में लोकप्रिय संत महर्षि मेंहीं और उनके आध्यात्मिक-प्रवचन से भारत के राष्ट्रपति डॉ. शर्मा, प्रधानमन्त्री श्री वाजपेयी सहित कई राज्यो के राज्यपाल, मुख्यमंत्री , नेपाल के महाराजा सहित अनेक व्यक्ति प्रभावित हुए हैं। संत मदर टेरेसा और बिनोवा भावे उनसे खासे प्रभावित थे। ‘सत्संग योग’ पुस्तक उनकी अनुकरणीय कृति है।

जिसतरह से भगवान बुद्ध के लिए बौद्धगया महत्वपूर्ण रहा है, उसी भाँति महर्षि मेंहीं के लिए कुप्पाघाट, भागलपुर महत्वपूर्ण स्थल है। प्रतिवर्ष लाखों श्रद्धालु इस स्थल के दर्शन करने आते हैं । मैंने विगत सितम्बर में इस संत को मरणोपरांत ‘भारत रत्न’ प्रदानार्थ आधिकारिक ‘प्रार्थना-पत्र’ गृह मंत्रालय, भारत सरकार को भेजा है। इस समाचार पत्र के माध्यम से पाठकों से अपील है, वे सब इस मुहिम को मंजिल तक पहुँचाए।

धार्मिकता और आध्यत्मिकता में अंतर है, क्योंकि धार्मिकता पुनर्जन्म पर अवलम्बित भी है, वहीं आध्यात्मिकता ‘मोक्ष’ की ओर ले जाता है। ‘योग’ कई बिम्बों के सापेक्ष शारीरिक निरोगता के लिए भी, तो धार्मिकता और आध्यात्मिकता के लिए भी !

2 Likes · 275 Views
You may also like:
घर घर तिरंगा अब फहराना है
Ram Krishan Rastogi
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
हैप्पी फादर्स डे (लघुकथा)
drpranavds
ऐसा ही होता रिश्तों में पिता हमारा...!!
Taj Mohammad
बहते हुए लहरों पे
Nitu Sah
फिर भी तुम्हारे लिए
gurudeenverma198
मेरे देश का तिरंगा
VINOD KUMAR CHAUHAN
रेत   का   घर 
Alok Saxena
शाइ'राना है तबीयत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
सितारे बुलंद थे मेरे
shabina. Naaz
जोकर vs कठपुतली ~02
bhandari lokesh
"पिता"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
भक्तिरेव गरीयसी
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम हर गम छुपा लेते हैं।
Taj Mohammad
When I missed you.
Taj Mohammad
मजदूर.....
Chandra Prakash Patel
अपनी पलकों को
Dr fauzia Naseem shad
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
सृजन
Prakash Chandra
सबको दुनियां और मंजिल से मिलाता है पिता।
सत्य कुमार प्रेमी
JNU CAMPUS
मनोज शर्मा
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
कमियाँ
Anamika Singh
अब आगाज यहाँ
vishnushankartripathi7
ए बदरी
Dhirendra Panchal
व्यक्तिवाद की अजीब बीमारी...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
विरहनी के मुख से कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
दिल की आवाज़
Dr fauzia Naseem shad
Loading...