Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 5, 2022 · 1 min read

ये सिर्फ मैं जानता हूँ

देख के तुझे कितना सुकून मुझे मिलता है
ये सिर्फ मैं जानता हूँ।
हे तु क्या चीज,ये सिर्फ मैं जानता हूँ।
हे तेरा क्या वजूद इस जहा मे
ये सिर्फ मैं जानता हूँ।
भले ही कुछ ना हो तु ,दुनिया की नजरों मे
क्या है तेरा वजूद ,ये सिर्फ मैं जानता हूँ।
सिखा है मैंने तुझसे बहुत कुछ,क्या है तु
ये सिर्फ मैं जानता हूँ।
दिया है तुने मुझे कितना, क्या है तेरे पास
ये सिर्फ मैं जानता हूँ।
हे तेरा ही अहसास इस दिल को, प्यार हे या कुछ ओर
ये सिर्फ मैं जानता हूँ।
समाया है तु मेरी हर ख्वाईशों मे,हे तु मेरे रब्ब की तरहा,ये सिर्फ मैं जानता हूँ।
***********************************
Swami ganganiya

2 Likes · 1 Comment · 129 Views
You may also like:
वृक्ष हस रहा है।
Vijaykumar Gundal
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हिंदी व डोगरी की चहेती लेखिका पद्मा सचदेव का निधन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विश्व जनसंख्या दिवस
Ram Krishan Rastogi
हिन्दू साम्राज्य दिवस
jaswant Lakhara
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
सुकून
Harshvardhan "आवारा"
पंछी हमारा मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
✍️✍️लफ्ज़✍️✍️
'अशांत' शेखर
बारी है
वीर कुमार जैन 'अकेला'
ज़िंदगी क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
भुला दो मुझको
Dr fauzia Naseem shad
उन बिन, अँखियों से टपका जल।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*रामभक्त हनुमान (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
श्री गंगा दशहरा द्वार पत्र (उत्तराखंड परंपरा )
श्याम सिंह बिष्ट
मेरा जीवन
Anamika Singh
غزل
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
अजीब मनोस्थिति "
Dr Meenu Poonia
सर्वश्रेष्ठ
Seema 'Tu haina'
क्यो अश्क बहा रहे हो
Anamika Singh
किस्मत ने जो कुछ दिया,करो उसे स्वीकार
Dr Archana Gupta
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बहुत कम होता हैवो लम्हा
shabina. Naaz
✍️मातम और सोग है...!✍️
'अशांत' शेखर
या इलाही।
Taj Mohammad
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
गाफिल।
Taj Mohammad
ईश्वर की जयघोश
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...