Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 27, 2022 · 1 min read

ये लखनऊ है मेरी जान।

ये लखनऊ है मेरी जान।
सबसे अलग हैं इसकी शान।।

लहज़ा इसका है मीठा।
कहीं मिलती ना ऐसी जुबान।।

चारबाग,अमीनाबाद।
भीड़ से सदा ही रहता जाम।।

भूलभुलैया,इमामबाड़ा।
हो जैसे एक जादू का मकाम।।

सारे संसार में मशहूर है।
यहां की मदहोशी भरी शाम।।

नवाबी है इसकी पहचान।
दूसरा इसका अवध है नाम।।

कोठियों के दीवारों दर पे।
नक्काशी से बने है मेहराब।।

प्यारो खुलुश से भरा है।
हर दिल में बड़ा ही आदाब।।

बड़ा मशहूर है यहां का।
खाने,कपड़े में यह नक्खास।।

क्या कहना मेजबानी में।
खातिरदारी ना भूले मेहमान।।

पहले आप पहले आप में।
बिगड़ जाते है लोगो के काम।।

जाकर देखो रेजिडेंसी में।
बाकी है आजादी के निशान।।

शानो शौकत का ना पूंछों।
शान में दे दी नवाबों ने जान।।

हम पर फिदा लखनऊ है।
इस पर फिदा हमारी ये जान।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

121 Views
You may also like:
घुटने टेके नर, कुत्ती से हीन दिख रहा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तुझे देखूं सुबह शाम।
Taj Mohammad
वक्त लगता है
Deepak Baweja
ये कैसा बेटी बाप का रिश्ता है?
Taj Mohammad
कर्म पथ
AMRESH KUMAR VERMA
रक्षाबंधन भाई बहन का त्योहार
Ram Krishan Rastogi
प्रेम की परिभाषा
Nitu Sah
प्रश्न पूछता है यह बच्चा
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
# महकता बदन #
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मकड़जाल
Vikas Sharma'Shivaaya'
💐तर्जुमा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कविता
Mahendra Narayan
मोहब्बत कुआं
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
पापा की परी...
Sapna K S
वो एक तुम
Saraswati Bajpai
आशाओं के दीप.....
Chandra Prakash Patel
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
Be A Spritual Human
Buddha Prakash
बारहमासी समस्या
Aditya Prakash
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Tnmy R Shandily
खामोश रह कर हमने भी रख़्त-ए-सफ़र को चुन लिया
शिवांश सिंघानिया
" शौक बड़ी चीज़ है या मजबूरी "
Dr Meenu Poonia
अनामिका के विचार
Anamika Singh
विचलित मन
AMRESH KUMAR VERMA
मेरा पेड़
उमेश बैरवा
पैसे की महिमा
Ram Krishan Rastogi
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
महंगाई के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
धूप में साया।
Taj Mohammad
वो कहते हैं ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...