Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2022 · 1 min read

ये रात अलग है जैसे वो रात अलग थी

ये रात अलग है जैसे वो रात अलग थी
🌹ये बात अलग है जैसे वो बात अलग थी
हमे भी है पता आसमाँ को जमीं ना मिले
🌹पर दिल उसी से लगा जिनकी ख़्यालात अलग थी ।।

©® प्रेमयाद कुमार नवीन
जिला – महासमुंद (छः ग)

12 Views
You may also like:
हम आज भी
Dr fauzia Naseem shad
झूला सजा दो
Buddha Prakash
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
तेरी ज़रूरत बन जाऊं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
उसकी आदत में रह गया कोई
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
बोझ
आकांक्षा राय
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Saraswati Bajpai
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...