Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 14, 2022 · 2 min read

ये माला के जंगल

ये माला के जंगल

कुछ तपस्वी से लगते हैं
शांत भाव से तप करते हैं
हरे भरे तरोताजा से
प्रफुल्लित मन खड़े रहते हैं ।
कुछ बुझे – बुझे मुरझाये से हैं
कुछ झाड़ बन चिड़चिड़ाए से हैं
लिये रूप विभिन्न अनोखे से हैं
ये माला के जंगल ।

कहीं घने घने से मिले जुले से
मित्र भाव से खड़े हुए से ,
कुछ सूखे से झाड़ी बनकर
उलझे – उलझे फंसे – फंसे से
कभी दूर – दूर बिखरे – बिखरे से
लड़ – झगड़कर मुँह बनाये से
मानो रूठे एक – दूजे से
ये माला के जंगल ।

कुछ छोटे और बड़े लंब से
कुछ ऊँचे खडे हुए खंभ से
कहीं – कहीं टेढे़ – मेढे़ से
ऊपर – नीचे उलटे – सीधे से
मोटे – पतले लगते विलोम से
फिर भी कैसे मिले – जुले से
हैं बड़े मनोहर प्यारे – प्यारे
ये माला के जंगल ।

कहीं बांस के झुंड खड़े हैै
कहीं साल ,सीसम , सागौन मिले है
अलग – अलग कुनबों से होकर भी
एक दूजे के संग पले हैं
सतरंगी फूलों से शोभित
लिये महक सराबोर हुए हैं ।
बहु सुगंधित , करते मोहित
ये माला के जंगल ।

जगह – जगह बंगाली बस्ती
उनके बीच मवेशी मस्ती
सियार, लोमड़ी, भालू, चीता
घूम घूम दिन इनका बीता
सांभर, चीतल, काकड़ ,पाड़ा
कितने हिरनों का जमवाड़ा ।
रेल बीच से है रही निकल
ये माला के जंगल ।

बात यहाँ की और विशेष
मिले यहाँ पर कुछ अवशेष
मेरे पूर्वज यह कहते थे
राजा “बेनि” यहाँ रहते थे
बहती माला नदी किनारे
सिद्ध आश्रम चलते भंडारे
करते बाबा सबका मंगल
ये माला के जंगल ।

डॉ रीता सिंह
असिस्टेंट प्रोफेसर,
एन के बी एम जी (पी जी) कॉलेज,
चन्दौसी (सम्भल)

1 Like · 3 Comments · 169 Views
You may also like:
" पवित्र रिश्ता "
Dr Meenu Poonia
माई री [भाग२]
Anamika Singh
सुन ज़िन्दगी!
Shailendra Aseem
स्वर्गीय श्री पुष्पेंद्र वर्णवाल जी का एक पत्र : मधुर...
Ravi Prakash
वफा की मोहब्बत।
Taj Mohammad
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग१]
Anamika Singh
हौसलों की उड़ान।
Taj Mohammad
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तमन्ना ए कल्ब।
Taj Mohammad
✍️✍️भोंगे✍️✍️
"अशांत" शेखर
दोस्ती अपनी जगह है आशिकी अपनी जगह
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
मेरे कच्चे मकान की खपरैल
Umesh Kumar Sharma
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
बस एक ही भूख
DESH RAJ
✍️शरारत✍️
"अशांत" शेखर
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिंदगी की कुछ सच्ची तस्वीरें
Ram Krishan Rastogi
#जंगली फर (चार)....
Chinta netam " मन "
पिता
Shailendra Aseem
स्वर्ग नरक का फेर
Dr Meenu Poonia
Think
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दो बिल्लियों की लड़ाई (हास्य कविता)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फरिश्ता से
Dr.sima
बचपन
Anamika Singh
उन बिन, अँखियों से टपका जल।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अजनबी
Dr. Alpa H. Amin
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
किताब...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...