Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-555💐

ये पयाम पूरा मरीज़ बना दे रहे हैं मुझको,
हालात ख़राब हैं क्या इनाम दे रहे हैं मुझको,
इतवार को क्या हो जान-ए-महबूबी पता नहीं,
बस तुम्हारा ही इंतिज़ार है बस तुम्हारा मुझको।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”
कह दो हम भी दे देंगे, जो दे रहा है सो।ok।

Language: Hindi
262 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बगावत का बिगुल
बगावत का बिगुल
Shekhar Chandra Mitra
माना के वो वहम था,
माना के वो वहम था,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बुलेट ट्रेन की तरह है, सुपर फास्ट सब यार।
बुलेट ट्रेन की तरह है, सुपर फास्ट सब यार।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️क्या सीखा ✍️
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
कर्ज का बिल
कर्ज का बिल
Buddha Prakash
जीवन का लक्ष्य महान
जीवन का लक्ष्य महान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
होली : नौ दोहे
होली : नौ दोहे
Ravi Prakash
पर्यावरण
पर्यावरण
Dr Parveen Thakur
आवत हिय हरषै नहीं नैनन नहीं स्नेह।
आवत हिय हरषै नहीं नैनन नहीं स्नेह।
sheelasingh19544 Sheela Singh
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
कृष्ण मलिक अम्बाला
कितने छेड़े और  कितने सताए  गए है हम
कितने छेड़े और कितने सताए गए है हम
Yogini kajol Pathak
गुरु महान है।
गुरु महान है।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
इस तरह से
इस तरह से
Dr fauzia Naseem shad
लव यू इंडिया
लव यू इंडिया
Kanchan Khanna
तुम मुझे भुला ना पाओगे
तुम मुझे भुला ना पाओगे
Ram Krishan Rastogi
दोहा
दोहा
Dushyant Baba
जीवनामृत
जीवनामृत
Shyam Sundar Subramanian
दिल लगाऊं कहां
दिल लगाऊं कहां
Kavita Chouhan
हमारा चंद्रयान थ्री
हमारा चंद्रयान थ्री
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
अशिक्षा
अशिक्षा
AMRESH KUMAR VERMA
'फूल और व्यक्ति'
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
■ कब तक, क्या-क्या बदलोगे...?
■ कब तक, क्या-क्या बदलोगे...?
*Author प्रणय प्रभात*
गुलाब-से नयन तुम्हारे
गुलाब-से नयन तुम्हारे
परमार प्रकाश
हाल ए इश्क।
हाल ए इश्क।
Taj Mohammad
जिन्दगी
जिन्दगी
Ashwini sharma
श्याम घनाक्षरी
श्याम घनाक्षरी
सूर्यकांत द्विवेदी
💐प्रेम कौतुक-521💐
💐प्रेम कौतुक-521💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
करीब हो तुम मगर
करीब हो तुम मगर
Surinder blackpen
तीन दोहे
तीन दोहे
Vijay kumar Pandey
Loading...