Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-501💐💐

ये पयाम अब मज़म्मत हैं,तो कहाँ बेहतर है,
फिर कहूँगा मिरी जाँ,उनकी जाँ से बेहतर है,
ये मिरे दिल की गलियाँ आहिस्ता से बंद होंगी,
मेरा हर ख़्याल वास्ते उनके,अभी भी बेहतर हैं।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
50 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
*लोन सब बट्टे खाते (कुंडलिया)*
*लोन सब बट्टे खाते (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दर्पण
दर्पण
लक्ष्मी सिंह
झूमका
झूमका
Shekhar Chandra Mitra
■ देसी ग़ज़ल...
■ देसी ग़ज़ल...
*Author प्रणय प्रभात*
हाल-ए-दिल जब छुपा कर रखा, जाने कैसे तब खामोशी भी ये सुन जाती है, और दर्द लिए कराहे तो, चीखों को अनसुना कर मुँह फेर जाती है।
हाल-ए-दिल जब छुपा कर रखा, जाने कैसे तब खामोशी भी ये सुन जाती है, और दर्द लिए कराहे तो, चीखों को अनसुना कर मुँह फेर जाती है।
Manisha Manjari
भारत भूमि में पग पग घूमे ।
भारत भूमि में पग पग घूमे ।
Buddha Prakash
यूँ इतरा के चलना.....
यूँ इतरा के चलना.....
Prakash Chandra
दोहे
दोहे
सत्य कुमार प्रेमी
मेरी धुन में, तेरी याद,
मेरी धुन में, तेरी याद,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
छाती पर पत्थर /
छाती पर पत्थर /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भले हमें ना पड़े सुनाई
भले हमें ना पड़े सुनाई
Ranjana Verma
शायरी संग्रह
शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
मेरी माँ......
मेरी माँ......
Awadhesh Kumar Singh
खास हो तुम
खास हो तुम
Satish Srijan
सब अपनो में व्यस्त
सब अपनो में व्यस्त
DrLakshman Jha Parimal
जंगल के राजा
जंगल के राजा
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
सरल मिज़ाज से किसी से मिलो तो चढ़ जाने पर होते हैं अमादा....
सरल मिज़ाज से किसी से मिलो तो चढ़ जाने पर होते हैं अमादा....
कवि दीपक बवेजा
खुद में हैं सब अधूरे
खुद में हैं सब अधूरे
Dr fauzia Naseem shad
कुछ दर्द।
कुछ दर्द।
Taj Mohammad
"मन"
Dr. Kishan tandon kranti
शोर जब-जब उठा इस हृदय में प्रिये !
शोर जब-जब उठा इस हृदय में प्रिये !
Arvind trivedi
उदासीनता
उदासीनता
Shyam Sundar Subramanian
मां का हुआ आगमन नव पल्लव से हुआ श्रृंगार
मां का हुआ आगमन नव पल्लव से हुआ श्रृंगार
Charu Mitra
इशारा दोस्ती का
इशारा दोस्ती का
Sandeep Pande
तुमने देखा ही नहीं
तुमने देखा ही नहीं
Surinder blackpen
हाथ पर हाथ रखा उसने
हाथ पर हाथ रखा उसने
Vishal babu (vishu)
मंजिल छूते कदम
मंजिल छूते कदम
Arti Bhadauria
Dont judge by
Dont judge by
Vandana maurya
बच कर रहता था मैं निगाहों से
बच कर रहता था मैं निगाहों से
Shakil Alam
💐प्रेम कौतुक-519💐
💐प्रेम कौतुक-519💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...