Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-549💐

ये पयाम अब बुलबुले सी ज़िंदगी लिए हैं,
अब वक़्त कहाँ है हम तो ज़हर सा पिए हैं,
बात करो क़ीमत लगा दो जो माँगे मेरी,
क़ीमत से ज़्यादा तुम्हारे लिए लिख दिए हैं।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

तुम सब कूड़ा हो, तुम्हारा सब लौटा देंगें सूद सहित।मर जाओ चूजो तुमसे कुछ न हुआ।मर जा मोटी।

Language: Hindi
86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ख्वाब आँखों में सजा कर,
ख्वाब आँखों में सजा कर,
लक्ष्मी सिंह
समृद्धि
समृद्धि
Paras Nath Jha
पहचान तेरी क्या है
पहचान तेरी क्या है
Dr fauzia Naseem shad
निराली है तेरी छवि हे कन्हाई
निराली है तेरी छवि हे कन्हाई
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भारत का सर्वोच्च न्यायालय
भारत का सर्वोच्च न्यायालय
Shekhar Chandra Mitra
"तेरे बिन "
Rajkumar Bhatt
रुक्सत रुक्सत बदल गयी तू
रुक्सत रुक्सत बदल गयी तू
The_dk_poetry
उसने कहा था
उसने कहा था
अंजनीत निज्जर
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रिय भतीजी के लिए...
प्रिय भतीजी के लिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
खोपक पेरवा (लोकमैथिली_कविता)
खोपक पेरवा (लोकमैथिली_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जनक छन्द के भेद
जनक छन्द के भेद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Writing Challenge- जानवर (Animal)
Writing Challenge- जानवर (Animal)
Sahityapedia
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet kumar Shukla
प्रेम
प्रेम
Dr. Shailendra Kumar Gupta
इंतजार है नया कैलेंडर (हास्य गीत)
इंतजार है नया कैलेंडर (हास्य गीत)
Ravi Prakash
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
Rambali Mishra
जो गगन जल थल में है सुख धाम है।
जो गगन जल थल में है सुख धाम है।
सत्य कुमार प्रेमी
याद आते हैं।
याद आते हैं।
Taj Mohammad
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
✍️किसान के बैल की संवेदना✍️
✍️किसान के बैल की संवेदना✍️
'अशांत' शेखर
भुला ना सका
भुला ना सका
Dr. Mulla Adam Ali
मानव जीवन में तर्पण का महत्व
मानव जीवन में तर्पण का महत्व
Santosh Shrivastava
गीत-2 ( स्वामी विवेकानंद जी)
गीत-2 ( स्वामी विवेकानंद जी)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
चलना ही पड़ेगा
चलना ही पड़ेगा
Mahendra Narayan
प्राची संग अरुणिमा का,
प्राची संग अरुणिमा का,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
उसका प्यार
उसका प्यार
Dr MusafiR BaithA
सितम ढाने का, हिसाब किया था हमने,
सितम ढाने का, हिसाब किया था हमने,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...