Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ये नागिन सी जहरीली लहरें

यह कैसी लहरें जो आफत बनकर सामने आई है ,
इंसानों की जिंदगी में मौत का पैगाम लेकर आई है।

एक ओर से तो सागर की लहरों ने तबाही मचाए है,
और दूसरी ओर से करोना की लहरें चढ़ आई है ।

क्या करें कहां जाएं कैसे इससे जान हम बचाए ,
एक तरफ कुंआ और दूसरी और गहरी खाई है।

कितनी ही जिंदगियां खा चुकी है जहरीली नागिन ,
और कितनों को अपना निवाला बनाने आई है ?

देश की अर्थव्यवस्था भी हिला कर रख दी इन्होंने ,
क्या देशवासियों को बरबाद करने की कसम खाई है ?

आनंद और खुशी की लहरों में डूबते आए अब तक ,
मौत के सागर में डुबोने वाली यह कैसी लहरें आई है ?

एक को तो चीन ने भेजा अपनी दुश्मनी निकालने को ,
मगर जाने क्यों सागर की लहरों ने आफत मचाई है ।

सागर पर खड़े होकर कभी लहरें गिनना सुहाता था,
भूल नहीं सकते इसकी ठंडक मन को कितनी भाई है।

प्रेम ,स्नेह ,ममता,करुणा की लहरें उठी जब कभी उठी,
हमारे जीवन को संगीतमय सदा यह करती आई है ।

मगर यह कोई साधारण लहरें नहीं जहरीली नागिन है ,
जो मौत बांटने के साथ रिश्तों में भी जहर घोलने आई है ।

ए खुदा ! हमें बचाओ इन खौफनाक जहरीली नागिन से ,
“अनु” ने घबराकर तेरे दर पर आज फरियाद की है ।

3 Likes · 6 Comments · 268 Views
You may also like:
यशोधरा की व्यथा....
kalyanitiwari19978
*दर्शन प्रभुजी दिया करो (गीत भजन)*
Ravi Prakash
महबूब ए इश्क।
Taj Mohammad
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit kumar
पिता
अवध किशोर 'अवधू'
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी...
Ravi Prakash
✍️कथासत्य✍️
"अशांत" शेखर
✍️इश्क़ और जिंदगी✍️
"अशांत" शेखर
बहते अश्कों से पूंछो।
Taj Mohammad
'वर्षा ऋतु'
Godambari Negi
शिक्षा संग यदि हुनर हो...
मनोज कर्ण
" सूरजमल "
Dr Meenu Poonia
"मैं पाकिस्तान में भारत का जासूस था" किताबवाले महान जासूस...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नभ के दोनों छोर निलय में –नवगीत
रकमिश सुल्तानपुरी
*साधुता और सद्भाव के पर्याय श्री निर्भय सरन गुप्ता :...
Ravi Prakash
कविगोष्ठी समाचार
Awadhesh Saxena
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
'बादल' (जलहरण घनाक्षरी)
Godambari Negi
मैं तुम्हें पढ़ के
Dr fauzia Naseem shad
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
संडे की व्यथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
कितनी इस दर्द ने
Dr fauzia Naseem shad
औरतें
Kanchan Khanna
कितनी सहमी सी
Dr fauzia Naseem shad
स्वर्ग नरक का फेर
Dr Meenu Poonia
Loading...