Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jun 2023 · 1 min read

ये दुनिया है

ये दुनिया है…
दूना कर देती है
जो भी करोगें उसे…
दूना कर देती है
हॅसोगे तो हॅसेगी,रोओगे तो…
सूना कर देती है
खुश रहे तो खुशीयों को…
दूना कर देती है

दुखी रहे तो दिल जला…
भूना कर देती है
ये दुनिया है…
दूना कर देती है

भलाई करोगें तो भला
बुराई करोगें तो बुरा
दोनों का हिसाब ये…
सौ गुना कर देती है
ये दुनिया है…
दूना कर देती है

तू दुखी रहेगा तो…
तेरी पीठ में रखी दुनिया
तुझे बहुत भारी लगेगी
तू खुश रहेगा तो…
ये दुनिया पीठ में बैठे
बच्चे की सवारी लगेगी

तेरी रंगीले व काले कामों मेंं…
चूना कर देती है
ये दुनिया है…
दूना कर देती है
जो भी करोगें…
दूना कर देती है
~०~
मौलिक एवं स्वरचित: रचना संख्या-१२
जीवनसवारो,मई २०२३.

Language: Hindi
94 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पिता का प्यार
पिता का प्यार
pradeep nagarwal
यह समय / MUSAFIR BAITHA
यह समय / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
माँ वाणी की वंदना
माँ वाणी की वंदना
Prakash Chandra
४० कुंडलियाँ
४० कुंडलियाँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेरे नाम यह पैगा़म है सगी़र की ग़ज़ल।
तेरे नाम यह पैगा़म है सगी़र की ग़ज़ल।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कभी कम न हो
कभी कम न हो
Dr fauzia Naseem shad
💐अज्ञात के प्रति-136💐
💐अज्ञात के प्रति-136💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रोशन
रोशन
अंजनीत निज्जर
हे आदमी, क्यों समझदार होकर भी, नासमझी कर रहे हो?
हे आदमी, क्यों समझदार होकर भी, नासमझी कर रहे हो?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"Hope is the spark that ignites the fire of possibility, and
Manisha Manjari
*अब गुलालों तक के भीतर, रंग पक्के हो गए (मुक्तक)*
*अब गुलालों तक के भीतर, रंग पक्के हो गए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
Rakesh Singh
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
कातिल ना मिला।
कातिल ना मिला।
Taj Mohammad
चेतावनी हिमालय की
चेतावनी हिमालय की
Dr.Pratibha Prakash
“ जालंधर केंट टू अमृतसर ” ( यात्रा संस्मरण )
“ जालंधर केंट टू अमृतसर ” ( यात्रा संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
Kuch nahi hai.... Mager yakin to hai  zindagi  kam hi  sahi.
Kuch nahi hai.... Mager yakin to hai zindagi kam hi sahi.
Rekha Rajput
हम देखते ही रह गये
हम देखते ही रह गये
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
एक लोग पूछ रहे थे दो हज़ार के अलावा पाँच सौ पर तो कुछ नहीं न
एक लोग पूछ रहे थे दो हज़ार के अलावा पाँच सौ पर तो कुछ नहीं न
Anand Kumar
आज और कल
आज और कल
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
प्यार की बातें कर मेरे प्यारे
प्यार की बातें कर मेरे प्यारे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यूँही कुछ मसीहा लोग बेवजह उलझ जाते है
यूँही कुछ मसीहा लोग बेवजह उलझ जाते है
'अशांत' शेखर
फ़रियाद
फ़रियाद
VINOD KUMAR CHAUHAN
हमारा सफ़र
हमारा सफ़र
Manju sagar
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
shabina. Naaz
सहित्य में हमे गहरी रुचि है।
सहित्य में हमे गहरी रुचि है।
Ekta chitrangini
2469.पूर्णिका
2469.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जब मैंने एक तिरंगा खरीदा
जब मैंने एक तिरंगा खरीदा
SURYAA
" मोहमाया का जंजाल"
Dr Meenu Poonia
Rang hi khuch aisa hai hmare ishk ka , ki unhe fika lgta hai
Rang hi khuch aisa hai hmare ishk ka , ki unhe fika lgta hai
Sakshi Tripathi
Loading...