Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#25 Trending Author
Jun 26, 2022 · 1 min read

ये जिंदगी ना हंस रही है।

दिखने में यूं तो हंस रहे है पर रूह हमारी रो रही है।
ढेरों खरीद ली खुशियां पर ये जिंदगी ना हंस रही है।।1।।

जाने कैसा यह गणित है अब तुम ही बताओ लोगो।
उम्र तो बढ़ रही है पर ये जिंदगी क्यूं कम हो रही है।।2।।

पतझड़ के दरख़्त सा बिल्कुल हाल हुआ है हमारा।
जमीं पर तो खड़े है पर शाख से पत्तियां गिर रही है।।3।।

जिन्दगी भी खुशी और गम के मझधार में फंसी है।
साहिल को कैसे पहुंचे कश्ती जब लहरे उठ रही है।।4।।

कोशिश तो बहुत की कि हंस कर बिताए हम वक्त।
दिल को कैसे खुश रखे जब जिन्दगी गम दे रही है।।5।।

नज़रों को फिर मन्जर दिखा उठते हुए जनाजे का।
मौत का दामन थामें जिन्दगी तुरबत को जा रही है।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

3 Likes · 6 Comments · 74 Views
You may also like:
जाने क्यों वो सहमी सी ?
Saraswati Bajpai
सुरज से सीखों
Anamika Singh
✍️मैं अपनी रूह के अंदर गया✍️
'अशांत' शेखर
“ अमिट संदेश ”
DrLakshman Jha Parimal
हमारे पास करने को दो ही काम है।
Taj Mohammad
प्रिय
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
गला रेत इंसान का,मार ठहाके हंसता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ऐसा ही होता रिश्तों में पिता हमारा...!!
Taj Mohammad
धरती अंवर एक हो गए, प्रेम पगे सावन में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अनामिका के विचार
Anamika Singh
अधूरी सी प्रेम कहानी
Seema Tuhaina
थिरक उठें जन जन,
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
'जियो और जीने दो'
Godambari Negi
मित्रों की दुआओं से...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
✍️दिल बहल जाता है।✍️
'अशांत' शेखर
“ खाइतो छी आ गुंगुअवैत छी “
DrLakshman Jha Parimal
हंसगति छंद , विधान और विधाएं
Subhash Singhai
हिरण
Buddha Prakash
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
*जल महादेव मैं तुम्हें चढ़ाने आया हूॅं (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
पर्यावरण
Vijaykumar Gundal
जय-जय भारत!
अनिल मिश्र
बारहमासी समस्या
Aditya Prakash
ग़ज़ल- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक ,...
Subhash Singhai
सावन
Shiva Awasthi
💐दुर्गुणं-दुराचार: व्यसनं आदि दुष्ट: व्यक्ति: सदृश:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️डर काहे का..!✍️
'अशांत' शेखर
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सूरत -ए -शिवाला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...