Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#8 Trending Author
Apr 14, 2022 · 2 min read

ये जिंदगी एक उलझी पहेली

ये जिंदगी एक उलझी पहेली्
कभी संगदिल कभी है सहेली
ये जिंदगी एक उलझी पहेली
कुछ भी करो पर सुलझती नहीं है
जितनी भी समझो उलझती रही है
किसी की चिता बन जाए पल में
किसी का ये दामन वर्षों ना छोड़े
कहीं पर हंसी कहीं आंसू बनी है
कहीं जुस्तजू कहीं आरज़ू बनी है
दे जाए खुशियां कहीं पर हजारों
कहीं गम से रिश्ता ये ना टूटने दे
किसी का फसाना किसी की ग़ज़ल है
कहीं सेज कांटों की कहीं पर कंवल है
कोई जी रहा है अपनी ही मय में
किसी के लिए जिंदगी गम भरी है
कोई ख्वाब लेता है इस जिंदगी के
तो कोई कोसता है इस जिंदगी को
आशा बनी कहीं निराशा बनी है
कहीं रोशनी कहीं अंधेरा बनी है
बचपन की यादों का झरोखा है या
ढलती उम्र का तकाजा है जिंदगी
ना समझे तो कुछ भी नहीं है लेकिन
सोचे तो सागर से गहरी है जिंदगी
इस जिंदगी के रूप है क्या क्या
कैसे कोई पहचान करें अब
कहीं फूल कहीं धूल बनी है
इस जिंदगी को ना अपनी समझना
घड़ी दो घड़ी की मेहमान है जिंदगी
कहीं पे ये डोली कहीं है जनाजा
कहीं सुबह कहीं श्याम है जिंदगी
या फिर है जैसे नदिया की धारा
सुख और दुख जैसे इसके किनारे
इस जिंदगी का भरोसा भी क्या है
हंसते को पल में रुला दे जिंदगी
रोते को पल में हंसा दे जिंदगी
ढूंढा बहुत पर कहां है जिंदगी
सोचा बहुत पर क्या है जिंदगी
नशा ऐसा जैसे शराब हो कोई
बगिया का जैसे गुलाब हो कोई
जैसे पथिक की प्यास है जिंदगी
कोई खुबसूरत अहसास है जिंदगी
कहने को बहुत कुछ है ये लेकिन
सोचे तो फिर है ये कोई पहेली
‘विनोद’जिंदगी एक उलझी पहेली
कभी संगदिल है कभी है सहेली

धन्यवाद्
(विनोद चौहान)
(12/03/1999 की शब्दरचना)

3 Likes · 80 Views
You may also like:
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
मां के समान कोई नही
Ram Krishan Rastogi
दिया
Anamika Singh
कभी मिलोगी तब सुनाऊँगा ---- ✍️ मुन्ना मासूम
मुन्ना मासूम
शहरों के हालात
Ram Krishan Rastogi
रिश्तो में मिठास भरते है।
Anamika Singh
मैं हो गई पराई.....
Dr. Alpa H. Amin
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
यक्ष प्रश्न ( लघुकथा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
Anamika Singh
बसन्त बहार
N.ksahu0007@writer
लाशें बिखरी पड़ी हैं।(यूक्रेन पर लिखी गई ग़ज़ल)
Taj Mohammad
इशारो ही इशारो से...😊👌
N.ksahu0007@writer
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता
Santoshi devi
*!* हट्टे - कट्टे चट्टे - बट्टे *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मेरी मोहब्बत की हर एक फिक्र में।
Taj Mohammad
गीत की लय...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
ग्रीष्म ऋतु भाग ४
Vishnu Prasad 'panchotiya'
माँ बाप का बटवारा
Ram Krishan Rastogi
समय और रिश्ते।
Anamika Singh
खोकर के अपनो का विश्वास...। (भाग -1)
Buddha Prakash
और कितना धैर्य धरू
Anamika Singh
✍️आव्हान✍️
"अशांत" शेखर
गंगा दशहरा गंगा जी के प्रकाट्य का दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
परख लो रास्ते को तुम.....
अश्क चिरैयाकोटी
ट्रेजरी का पैसा
Mahendra Rai
छाँव पिता की
Shyam Tiwari
प्रयास
Dr.sima
✍️✍️गुमराह✍️✍️
"अशांत" शेखर
Loading...