Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#1 Trending Author
May 17, 2022 · 2 min read

ये चिड़िया

ये चिड़िया तुम कहाँ से आती
और कहाँ को जाती हो।
अच्छा है तेरा कोई
मजहब धर्म नही है।
मंदिर – मस्जिद और गुरूद्वारा
में तुम बटी नही हो।
अच्छा है आजाद ख्याल से
तुम उड़ती रहती हो।
मजहब धर्म के नाम पर
तुम दंगे तो नही करती हो।
जाति धर्म के नाम पर
तुम खून तो नही बहाती हो।
माना तेरे जीवन में
समस्याएँ बहुत बड़ी है।
कभी प्यास से तुम तड़पती हो
कभी भूखे सो जाती हो।
कभी गर्मी तुम्हें तपाती है
कभी तूफानों से लड़ती हो।
माना तेरा कोई घर
टिक नही पाता है,
पर सोने का पिंजरा भी
तुम को कहाँ भाता है।
स्वतंत्र हवा में जीना ही
तेरी खुशी का राज है।
जाति -धर्म, देश-विदेश का
न तुम में कोई विवाद हैं।
अच्छा है तेरे पंखो पर
किसी का पहरा नही है।
किसी देश के सैनिक ने
तुम्हें घेरा तो नही है।
कोई देश तुम से पहचान
तो नही है माँग रहा।
तेरे घर बनाने के लिए
आधार तो नही माँग रहा।
अच्छा हैं तुम पर किसी का
कोई पाबंद नही है।
किसी तरह का कोई रंग
तुम पर चढा नही है।
अपने मतलब के लिए चिड़िया
तुमने किसी को ठगा नही है।
अच्छा है तुम खुले विचारो
से चहकती रहती हो।
अच्छा है तुम किसी के
बहकावे में नही पड़ती हो।
लाख लोभ देते तुम्हें लोग
पर तुम इसमें नही फंसती हो।
अच्छा है तुमने अपने
आस्तित्व को बेचा नही है।
काश चिड़िया तुम से मैं
थोडा भी सीख पाती,
ओर तेरी तरह अपनी
काॅम को मै भी रख पाती।

-अनामिका

3 Likes · 4 Comments · 81 Views
You may also like:
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
ऐसे हैं मेरे पापा
Dr Meenu Poonia
देखा जो हुस्ने यार तो दिल भी मचल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
*पार्क में योग (कहानी)*
Ravi Prakash
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
जल है जीवन में आधार
Mahender Singh Hans
सितम पर सितम।
Taj Mohammad
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हिम्मत न हारों
Anamika Singh
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
कहानी को नया मोड़
अरशद रसूल /Arshad Rasool
$दोहे- हरियाली पर
आर.एस. 'प्रीतम'
तन-मन की गिरह
Saraswati Bajpai
तलाश
Dr. Rajeev Jain
मेरी मोहब्बत की हर एक फिक्र में।
Taj Mohammad
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
साँप की हँसी होती कैसी
AJAY AMITABH SUMAN
.✍️वो पलाश के फूल...!✍️
"अशांत" शेखर
जब हम छोटे बच्चे थे ।
Saraswati Bajpai
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
मेरे कच्चे मकान की खपरैल
Umesh Kumar Sharma
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
खेतों की मेड़ , खेतों का जीवन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
Loading...