Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2022 · 1 min read

ये खुशी

ये खुशी तुम तो बात – बात पर
मुझे छोड़कर क्यों चली जाती है
आखिर तुम किस बात पर
इतना अकड़ दिखाती है
मेरा तो कोई कसूर भी न था
फिर भी तुम नाराज हो गई
मै लाख मनाती रही और तुम
मेरी जिन्दगी से रूठ कर चली गई
इससे अच्छा तो गम ही है
जो कोई अकड़ भी न दिखाता है
लाख बुरा भला कहू मै इसे
पर यह है जो मुझे छोड़कर
जाने का नाम नही लेता है।

~अनामिका

2 Likes · 136 Views
You may also like:
बच्चों को न बनने दें संकोची
Dr fauzia Naseem shad
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
आदर्श पिता
Sahil
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मन
शेख़ जाफ़र खान
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
सुन्दर घर
Buddha Prakash
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
Loading...