Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Oct 2022 · 1 min read

ये कैसी आज़ादी – कविता

शीर्षक – ” ये कैसी आज़ादी ”

बरस बीते…… आज़ाद हुए पर,
ख़्य़ाल अभी तक गुलाम बने हैं ।
आज़ाद मुल्क के बाशिंदे हम ,
क्यों ऱाम, रहीम, सतऩाम बने हैं ।।

ज़़ात-प़ात में बाँटा ख़ुद को ,
क्यों धर्म के ठेकेदार बने हैं ।
मुल्क को समझें घर अपना ,
क्यों यहां किरायेदार बने हैं ।।

भूख से कऱाहता बचपन,
सुनस़ान सड़क पर सोत़ा है ।
रोत़ा बिलखता भविष्य देख़ ,
भ़ारत माँ को दुख होता है ।।

ये कैसी आज़ादी जिसमें ,
मौन और नादान बने हैं ।
पत्थर हुए जज़्बात हमारे ,
क्रूर और हैवान बने हैं ।।

©डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
©काज़ीकीक़लम

28/3/2 , अहिल्या पल्टन , इकबाल कालोनी
इंदौर , मध्यप्रदेश

Language: Hindi
Tag: कविता
74 Views
You may also like:
कृष्ण
Neelam Sharma
"मौन "
DrLakshman Jha Parimal
एहसास
Er.Navaneet R Shandily
कनखी (श्रंगार रस-कुंडलिया)
Ravi Prakash
इंतजार की हद
shabina. Naaz
रावण का तुम अंश मिटा दो,
कृष्णकांत गुर्जर
✍️घर घर तिरंगा..!✍️
'अशांत' शेखर
गलती का भी हद होता है ।
Nishant prakhar
जब उम्मीदों की स्याही कलम के साथ चलती है।
Manisha Manjari
रक्षा बंधन :दोहे
Sushila Joshi
तिरंगे महोत्सव पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
बंधन
सूर्यकांत द्विवेदी
पोहा पर हूँ लिख रहा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
तुमसे थी उम्मीद
Anamika Singh
2023
AJAY AMITABH SUMAN
वह मौत भी बड़ा सुहाना होगा
Aditya Raj
मैं कहता आंखन देखी
Shekhar Chandra Mitra
फिर भी
Seema 'Tu hai na'
कभी हम भी।
Taj Mohammad
"जटा"कलम को छोड़
Jatashankar Prajapati
एक इंतज़ार दीजिए नई गज़ल विनीत सिंह शायर के कलम...
Vinit kumar
मानपत्र
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नसीब
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रेम तुम्हारा ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
💐💐बेबी मेरा टेस्ट ले रही💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ आज का रोचक शोध
*प्रणय प्रभात*
कहता नहीं मैं अच्छा हूँ
gurudeenverma198
हम कहानी अधूरी
Dr fauzia Naseem shad
उम्मीदों का सूरज
Shoaib Khan
सलाम
Dr.S.P. Gautam
Loading...