Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 3, 2017 · 1 min read

ये कैसा हादसा हुआ है

ये कैसा हादसा हुआ है
अब कैसा रगडा हुआ है

जोड़ने की चाह थी दिल को
ये तो टूट कर बिखरा हुआ है

ठोकरों से बाहर निकल कर
दिल फिर से निखरा हुआ है

मरहम की जुस्तजूं में
कल्ब फिर घायल हुआ है

रुसवा है तू आज फिर से
देख मौसम भी बिगड़ा हुआ है

कासिद दरिया-ऐ-इश्क में डूबा हुआ है
जा-बा-जा बज्मे-गमज़दा सजा हुआ है
कासिद==डाकिया
दरिया-ऐ-इश्क= प्यार का दरिया
जा-बा-जा= जगह – जगह
बज्मे-गमज़दा= ग़मों में डुबो हो की महफ़िल

वस्ले-यार की आस में शामो-शहर
हिज्र में रिंद बन गमज़दा हुआ है
वस्ले-यार=महबूब से मिलन
रिंद=शराबी
हिज्र=जुदाई
गमज़दा=गम में डूबा हुआ

बज़्म में वफाई की बे-वफ़ा ने
खते-तर्क-वफ़ा का इनाम में भेजा हुआ है
खते-तर्क-वफ़ा = प्यार खत्म करने का खत
पयाम=सन्देश
भूपेंद्र रावत
3/09/2017

1 Like · 189 Views
You may also like:
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
यादें
kausikigupta315
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
आस
लक्ष्मी सिंह
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
पिता
Dr. Kishan Karigar
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
Loading...