Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 6, 2016 · 1 min read

ये कैसा शरारा है.

दरिया में ही ख़ाक हुए, ये कैसा शरारा है.
साहिल पे ही डूब गए, ये कैसा किनारा है.
यहाँ छांव जलाती है,मुस्कान रुलाती है.
रातों में खुद को खुद की ही, परछाईं डराती है .
ये कौन सी दुनिया है, ये कैसा नज़ारा है.
साहिल पे ही डूब गए, ये कैसा किनारा है.
बीच भंवर में अटक गए, मंजिल से हम भटक गए.
वक़्त ने ऐसा पत्थर फेंका, सारे सपने चटक गए.
मालिक तेरी रहमत ही , बस एक सहारा है.
साहिल पे ही डूब गए, ये कैसा किनारा है
——– सतीश मापतपुरी

112 Views
You may also like:
तुझे देखा तो...
Dr. Meenakshi Sharma
धर्म
Vijaykumar Gundal
और कितना धैर्य धरू
अनामिका सिंह
योग दिवस पर कुछ दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दर्द की कश्ती
DESH RAJ
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण
'नटखट नटवर'(डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
गर तू होता क़िताब।
Taj Mohammad
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
नवगीत
Mahendra Narayan
✍️जिंदगी खुला मंचन है✍️
"अशांत" शेखर
तमन्नाओं का संसार
DESH RAJ
గురువు
Vijaykumar Gundal
विनती
अनामिका सिंह
✍️✍️अतीत✍️✍️
"अशांत" शेखर
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
✍️इश्क़ के बीमार✍️
"अशांत" शेखर
हुस्न में आफरीन लगती हो
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
लघुकथा: ऑनलाइन
Ravi Prakash
बेवफ़ा कहलाए है।
Taj Mohammad
जाने कैसी कैद
Saraswati Bajpai
मानव_शरीर_में_सप्तचक्रों_का_प्रभाव
Vikas Sharma'Shivaaya'
घृणित नजर
Dr Meenu Poonia
दीपावली
Dr Meenu Poonia
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...