Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#9 Trending Author
May 6, 2022 · 1 min read

ये कैसा बेटी बाप का रिश्ता है?

यूं अपना होकर क्यों पराया है।
ये कैसा बेटी बाप का रिश्ता है।।1।।

फंख है आए मेरे आंगन में ही।
यहीं से उस ने उड़ना सीखा है।।2।।

खुला आसमां दिया है उसको।
अच्छे पिताका फर्ज निभाना है।।3।।

देखने को उसको नैना तरसेंगें।
एक दिन दूर उसे उड़ जाना है।।4।।

सोचकर ही अश्क आ जाते है।
फिर भी दिल को समझाना है।।5।।

अभी तो छोटी सी गुड़िया थी।
उसको भी जल्दी बढ़ जाना है।।6।।

बिटिया मेरी सदा सलामत रहे।
बस यही देख कर मर जाना है।।7।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

3 Likes · 8 Comments · 56 Views
You may also like:
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️आज फिर जेब खाली है✍️
"अशांत" शेखर
Born again with love...
Abhineet Mittal
आईने की तरह मैं तो बेजान हूँ
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
दूजा नहीं रहता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
धर्म
Vijaykumar Gundal
मन को मोह लेते हैं।
Taj Mohammad
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
हिम्मत न हारों
Anamika Singh
हिंदी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#कविता//ऊँ नमः शिवाय!
आर.एस. 'प्रीतम'
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
मत करना
dks.lhp
He is " Lord " of every things
Ram Ishwar Bharati
निद्रा
Vikas Sharma'Shivaaya'
आदमी आदमी से डरने लगा है
VINOD KUMAR CHAUHAN
हमारी प्यारी मां
Shriyansh Gupta
दिल है कि मानता ही नहीं
gurudeenverma198
वक्त मलहम है।
Taj Mohammad
*माहेश्वर तिवारी जी से संपर्क*
Ravi Prakash
कोई तो हद होगी।
Taj Mohammad
आस्माँ के परिंदे
VINOD KUMAR CHAUHAN
संगीतमय गौ कथा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार "कर्ण"
वृक्ष हस रहा है।
Vijaykumar Gundal
*हिम्मत मत हारो ( गीत )*
Ravi Prakash
Loading...