Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2022 · 1 min read

ये कैंसी अभिव्यक्ति है, ये कैसी आज़ादी

ये कैंसी अभिव्यक्ति?,ये कैसी आज़ादी है?
व्यक्तिगत मामला बता रहे, पिटवा रहे मुनादी है
भले किसी को ठेस लगे,चाहे किसी का गला कटे
भड़क जाएं दंगे दुनिया में,चाहे लाशों से धरा पटे
आहत हों जन भावनाएं, सीमा रेखाएं मिटे
सड़कों पर हो जाए बवाल,चाहे कहीं भी आग लगे
देख कर उनकी अभिव्यक्ति,हम तो रह गए ठगे ठगे
चल रही थी जोर की आंधी, तुमने आग लगा दी
ये कैंसी अभिव्यक्ति है? ये कैसी आज़ादी?
व्यक्तिगत मामला बता रहे, पिटवा रहे मुनादी

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
2 Likes · 2 Comments · 136 Views
You may also like:
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
परम भगवदभक्त 'प्रहलाद महाराज'
Pravesh Shinde
🙏माता शैलपुत्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
हमारा घर छोडकर जाना
Dalveer Singh
*धनवानों का काव्य - गुरु बनना आसान नहीं होता*
Ravi Prakash
बरसो घन घनघोर, प्रीत को दे तू भीगन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वर्तमान से वक्त बचा लो:चतुर्थ भाग
AJAY AMITABH SUMAN
सुनहरी स्मृतियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गुमनाम
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
परिन्दे धुआं से डरते हैं
Shivkumar Bilagrami
तू अहम होता।
Taj Mohammad
संस्कारी नाति (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
दो किनारे हैं दरिया के
VINOD KUMAR CHAUHAN
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
एक कमरे की जिन्दगी!!!
Dr. Nisha Mathur
Advice
Shyam Sundar Subramanian
■ शाश्वत विचार
*Author प्रणय प्रभात*
मांगू तुमसे पूजा में, यही छठ मैया
gurudeenverma198
सम्बन्धों की
Dr fauzia Naseem shad
✍️तन्हा खामोश हूँ✍️
'अशांत' शेखर
टूटा तो
shabina. Naaz
-जीवनसाथी -
bharat gehlot
छठ पर्व
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
तुम दोषी हो?
Dr. Girish Chandra Agarwal
यथा प्रदीप्तं ज्वलनं.…..
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
करनी होगी जंग ( गीत)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मंदिर का पत्थर
Deepak Kohli
तुम्हारा शिखर
Saraswati Bajpai
झूमका
Shekhar Chandra Mitra
तू जाने लगा है
कवि दीपक बवेजा
Loading...