Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 6, 2022 · 1 min read

*”यूँ ही कुछ भी नही बदलता”*

*”यूँ ही कुछ भी”*
अचानक *यूँ ही कुछ भी* हासिल नही होता,
जीवन लक्ष्य बनाते हुए ,
जी जान से कड़ी मेहनत से ,
कुछ खोकर कुछ पाकर ,
तप साधना में लीन होकर ,
सब्र की सीमाओं में बंधकर ही ,
दर्दनाक पलों को बर्दाश्त कर ,
घोर निराशा में घिरकर ,
कड़वे अनुभव छल कपट झेल कर ,
तीखे व्यंग बाणों को सुनकर ही ,
कड़वे घूँट पीकर सहनशीलता रख,
जीवन जीने का अंदाज ढूंढ ही लेते।
*अचानक यूँ ही कुछ भी नहीं होता जीवन में…!!*
पल भर में ख्वाहिशें पूरी ना होती ,
कभी किसी जरूरतमंद की मदद कर ,
हमदर्द बन दुःख दर्द बाँटकर ,
चेहरे पे खुशी की झलक पाकर ,
नेक काम का नतीजा देख कर ,
खुशियों से मन भर जाता।
अनजान व्यक्ति की मदद कर ,
गमों को बांट हिम्मत दे जाता।
गलत नजरियों से बचकर ,
नजरअंदाज कर जाते।
सब्र की सीमाओं में बंधकर ही ,
सहनशील का चोला पहन जीने का अंदाज बदल ही जाते।
*यूँ ही कुछ भी* जीवन जीना आसान नही हो जाता।
पल भर में खुशी ,क्षण भर में गमों में बदल जाता।
जीवन कठिन परिस्थिति, संघर्ष समस्याओं में ही उलझ जाता।
प्रभु सुमिरन करने से सहनशील बन जीने का तरीका बदल जाता।
*शशिकला व्यास*✍️
स्वरचित मौलिक रचना

5 Likes · 3 Comments · 140 Views
You may also like:
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
आस
लक्ष्मी सिंह
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
पिता
विजय कुमार 'विजय'
Loading...