Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-488💐

यूँ मायूस होना उनका फिर यूँ मुस्कुराना,
गहराइयाँ बता रहा है इश्क़ की समझिए,
मेरी नज़रों का उनके चेहरे में फिर से अटकना,
नजदीकीयाँ बढ़ा रहा है, इश्क़ की समझिए।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
जिंदगी जीने का सबका अलग सपना
जिंदगी जीने का सबका अलग सपना
कवि दीपक बवेजा
💐अज्ञात के प्रति-151💐
💐अज्ञात के प्रति-151💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Aman Kumar Holy
इतिहास और साहित्य
इतिहास और साहित्य
Buddha Prakash
बेअदब
बेअदब
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
*तुम्हारे हाथ में है कर्म,फलदाता विधाता है【मुक्तक】*
*तुम्हारे हाथ में है कर्म,फलदाता विधाता है【मुक्तक】*
Ravi Prakash
धारा छंद 29 मात्रा , मापनी मुक्त मात्रिक छंद , 15 - 14 , यति गाल , पदांत गा
धारा छंद 29 मात्रा , मापनी मुक्त मात्रिक छंद , 15 - 14 , यति गाल , पदांत गा
Subhash Singhai
धड़कनो की रफ़्तार यूँ तेज न होती, अगर तेरी आँखों में इतनी दी
धड़कनो की रफ़्तार यूँ तेज न होती, अगर तेरी आँखों में इतनी दी
Vivek Pandey
शुभह उठता रात में सोता था, कम कमाता चेन से रहता था
शुभह उठता रात में सोता था, कम कमाता चेन से रहता था
Anil chobisa
अंध विश्वास - मानवता शर्मसार
अंध विश्वास - मानवता शर्मसार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नारी उर को
नारी उर को
Satish Srijan
घर बन रहा है
घर बन रहा है
रोहताश वर्मा मुसाफिर
तुम मत खुरेचना प्यार में ,पत्थरों और वृक्षों के सीने
तुम मत खुरेचना प्यार में ,पत्थरों और वृक्षों के सीने
श्याम सिंह बिष्ट
अब हम बहुत दूर …
अब हम बहुत दूर …
DrLakshman Jha Parimal
अक़्सर बूढ़े शज़र को परिंदे छोड़ जाते है
अक़्सर बूढ़े शज़र को परिंदे छोड़ जाते है
'अशांत' शेखर
लोकतंत्र
लोकतंत्र
Sandeep Pande
राह नहीं मंजिल नहीं बस अनजाना सफर है
राह नहीं मंजिल नहीं बस अनजाना सफर है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
बदले-बदले गाँव / (नवगीत)
बदले-बदले गाँव / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
खुदा पर है यकीन।
खुदा पर है यकीन।
Taj Mohammad
विचारों की आंधी
विचारों की आंधी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
छोड़ दूं क्या.....
छोड़ दूं क्या.....
Ravi Ghayal
■ विडम्बना
■ विडम्बना
*Author प्रणय प्रभात*
ताकि वो शान्ति से जी सके
ताकि वो शान्ति से जी सके
gurudeenverma198
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Ahsas tujhe bhi hai
Ahsas tujhe bhi hai
Sakshi Tripathi
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"अधूरी कविता"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
विमला महरिया मौज
मैं आग लगाने आया हूं
मैं आग लगाने आया हूं
Shekhar Chandra Mitra
Loading...