Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2020 · 1 min read

यूँ न समझो के मुहब्बत है उन्हें

यूँ न समझो के मुहब्बत है उन्हें
देख कर हँसने की आदत है उन्हें

मुस्कुरा के आज फिर गुजरे हैं वो
आज फिर कोई जरूरत है उन्हें

कौन पकड़े रोज की चालाकियां
कोई पछतावा न गैरत है उन्हें

जानकर अनजान बनकर फिर रहे
इन अदाओं में महारत है उन्हें

जब तलक है आदमी से फ़ायदा
तब तलक उनसे ही उल्फत है उन्हें

हाल दिल का जानते हैं वो मेरा
इश्क की अच्छी बशारत है उन्हें

प्यार की लहरों में डूबी सी ग़ज़ल
लगता है ‘सागर’ की हसरत है उन्हें

3 Likes · 2 Comments · 338 Views
You may also like:
प्रणय-निवेदन
प्रणय-निवेदन
Shekhar Chandra Mitra
नैनों की भाषा
नैनों की भाषा
Surya Barman
उसे तो देख के ही दिल मेरा बहकता है।
उसे तो देख के ही दिल मेरा बहकता है।
सत्य कुमार प्रेमी
आप सभी को महाशिवरात्रि की बहुत-बहुत हार्दिक बधाई..
आप सभी को महाशिवरात्रि की बहुत-बहुत हार्दिक बधाई..
आर.एस. 'प्रीतम'
भूतों के अस्तित्व पर सवाल ..
भूतों के अस्तित्व पर सवाल ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हमको मालूम है
हमको मालूम है
Dr fauzia Naseem shad
लो विदा अब
लो विदा अब
Dr. Girish Chandra Agarwal
खंड 6
खंड 6
Rambali Mishra
भूख
भूख
श्री रमण 'श्रीपद्'
💐अज्ञात के प्रति-112💐
💐अज्ञात के प्रति-112💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इतनी उदासी और न पक्षियों का घनेरा
इतनी उदासी और न पक्षियों का घनेरा
Charu Mitra
बाजा दाँत बजा रहे,ढपली ठिठुरे गात
बाजा दाँत बजा रहे,ढपली ठिठुरे गात
Dr Archana Gupta
मुझे प्रीत है वतन से,
मुझे प्रीत है वतन से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
क्षमा एक तुला है
क्षमा एक तुला है
Satish Srijan
★बदला★
★बदला★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
नारी_व्यथा
नारी_व्यथा
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अलविदा कहने से पहले
अलविदा कहने से पहले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*असल में वीर होते हैं (मुक्तक)*
*असल में वीर होते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इतना घुमाया मुझे
इतना घुमाया मुझे
कवि दीपक बवेजा
पटेबाज़
पटेबाज़
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#नज़्म / पता नहीं क्यों...!!
#नज़्म / पता नहीं क्यों...!!
*Author प्रणय प्रभात*
उठ जाओ भोर हुई...
उठ जाओ भोर हुई...
जगदीश लववंशी
अमृत महोत्सव
अमृत महोत्सव
वीर कुमार जैन 'अकेला'
💐 मेरी तलाश💐
💐 मेरी तलाश💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय ४
पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय ४ "विदेशों में पुनर्जन्म की...
Pravesh Shinde
Loading...