Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

युवा शक्ति तुमपे है आस

युवा शक्ति तुमपे है आस
मन में ला नयी उमंग
और अटूट नया विश्वास
न बैठे रह गुमशुम
युवा शक्ति तुमपे है आस

भूल जा अतीत निराश दिन
सुनहरे अक्षरों में लिखना है
एक नया इतिहास
आज कुछ नहीं तो क्या हुआ ?
होगा कल सबकुछ
ऊपर वाले पर रख विश्वास

देख लेना सारी दुनिया करेगा
तेरे कामों पे एक दिन नाज़
जो भी उलझने हैं पथ पर
कर ले विश्लेषण कल नहीं ,आज

मेहनत कर , सब्र कर
पहुंच से ज्यादा दूर नहीं
ये चाँद , ये आकाश
कुछ भी नहीं नामुमकिन यहाँ
तू करता रह प्रयास प्रयास प्रयास

तुम्हें चंचल मन को
बनाकर रखना होगा दास
तू जो चाहेगा वहीँ होगा
हिमालय सा अचल रख साहस
कुछ भी नहीं नामुमकिन यहाँ
तू करता रह प्रयास प्रयास प्रयास

1 Comment · 1139 Views
You may also like:
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
आओ तुम
sangeeta beniwal
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रफ्तार
Anamika Singh
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
अधुरा सपना
Anamika Singh
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पंचशील गीत
Buddha Prakash
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
Loading...