Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
Apr 28, 2022 · 1 min read

युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग६]

एक बुढा बाप जो युद्ध मे
अपने बेटे को खो चुका था,
अपने बेटे के अर्थी को लेकर
वह श्मशान जा रहा था!

जाते जाते सब से वह
यह बोले जा रहा था,
न जाने जीवन में कितने
बड़े- बड़े बोझ हमने उठाए है!

पर कंधे पर जो बोझ है आज
हमसे सहा न जा रहा है,
उसके आँखो के आँसु
आज कहा सुख रहा था!

इस लाल के लिए उसने
न जाने वह कितने सपने बुने थे ,
आज उसके सारे सपने
टूट कर बिखर गए थे!

आखिर कैसे वह अपने लाल को
अपने से जुदा कर पाएगा,
कैसे वह उसकी चिता को
आग लगा पाएगा!

यह प्रश्न उसके मन मै
बार बार घूम रहा था!
इस युद्ध कितना बड़ा
दुख दिया है,
वह चलते चलते सोच
रहा था!

~अनामिका

4 Likes · 4 Comments · 78 Views
You may also like:
मज़दूर की महत्ता
Dr. Alpa H. Amin
जानें किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
न तुमने कुछ न मैने कुछ कहा है
ananya rai parashar
दिल पूछता है हर तरफ ये खामोशी क्यों है
VINOD KUMAR CHAUHAN
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
महँगाई
आकाश महेशपुरी
पृथ्वी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
" tyranny of oppression "
DESH RAJ
नींबू के मन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
न्याय
Vijaykumar Gundal
!!! राम कथा काव्य !!!
जगदीश लववंशी
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
रामकथा की अविरल धारा श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी...
Ravi Prakash
जाऊं कहां मैं।
Taj Mohammad
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
✍️प्रकृति के नियम✍️
"अशांत" शेखर
मेरे दिल के करीब,आओगे कब तुम ?
Ram Krishan Rastogi
जेष्ठ की दुपहरी
Ram Krishan Rastogi
छंदों में मात्राओं का खेल
Subhash Singhai
लोभ
AMRESH KUMAR VERMA
In my Life.
Taj Mohammad
अरविंद सवैया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
चलो गांवो की ओर
Ram Krishan Rastogi
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
Loading...