Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
Apr 27, 2022 · 1 min read

युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग१]

एक नन्हा बच्चा जो युद्ध में
अपने माँ-बाप को खो चुका था!
अपने नन्हें-नन्हें हाथों से
माँ का आँचल खीच रहा था !
कभी पिता का हाथ को पकड़ उसे उठा रहा था!

माँ उठ जाओ, माँ उठ जाओ
वह बार-बार चिल्ला रहा था !
माँ मुझे भूख लगी हैं ,
यह बोल उसे जगा रहा था!

माँ को न जागते देख ,
वह इधर उधर देख रहा था !
अब क्या करे उसकी समझ में,
कुछ भी तो नहीं आ रहा था!

माँ के न उठने पर वह
पिता के पास दौड़ा- दौड़ा आया,
और पिता का हाथ पकड़ कर
उसे उठाने में लग गया।

पापा उठो- उठो मुझे भूख लगी है,
माँ भी देखो उठ नहीं रही है!
मुझे प्यास भी बड़ी जोर की लग रही है ,
एैसा कहकर वह पिता को जगाने में लग गया था!

उस अभागे को क्या पता था,
कि अब वह दोनों कहाँ उठ पाएगें,
और कहाँ अपने हाथों से उसको
अब वह खिला पाएँगे ?

वह अभागा तो अभी भी ,
उन दोनों को जगाने में लगा हुआ था!
उसको कहाँ पता था की वह
अब आनाथ हो गया था ?

वह सोच ही पाता कि
यह सब क्या हो रहा है !
तब तक भुख के मारे वह मौत
का शिकार हो गया था!

युद्ध ने इंसानियत को
शर्मसार कर दिया था !
कहाँ किसी युद्ध ने
किसी को खुशी दिया है !

कहाँ कभी किसी युद्ध ने कभी ,
किसी प्रशन का हल किया है !
वह तो सिर्फ और सिर्फ ,
प्रशन ही तो खड़ा किया है!

~अनामिका

4 Likes · 4 Comments · 91 Views
You may also like:
मेरे पापा
ओनिका सेतिया 'अनु '
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
✍️लॉकडाउन✍️
"अशांत" शेखर
हम और... हमारी कविताएँ....
Dr. Alpa H. Amin
गीत की लय...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
रुतबा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जिन्दगी तेरा फलसफा।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-32💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
"अशांत" शेखर
पृथ्वी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️KITCHEN✍️
"अशांत" शेखर
तो क्या होगा?
Shekhar Chandra Mitra
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सार्थक शब्दों के निरर्थक अर्थ
Manisha Manjari
बचालों यारों.... पर्यावरण..
Dr. Alpa H. Amin
रामायण आ रामचरित मानस मे मतभिन्नता -खीर वितरण
Rama nand mandal
💐प्रेम की राह पर-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
आज फिर
Rashmi Sanjay
✍️मुतअस्सिर✍️
"अशांत" शेखर
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
माँ तुम सबसे खूबसूरत हो
Anamika Singh
✍️✍️गुमराह✍️✍️
"अशांत" शेखर
दो पल मोहब्बत
श्री रमण
पर्यावरण
सूर्यकांत द्विवेदी
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...