Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jun 20, 2022 · 1 min read

या इलाही।

या इलाही कुछ सुकूं अता कर दे हमारे इस दिल को।
जबसे इश्क हुआ है ना अपना ख्याल है ना ज़माने का।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

1 Like · 53 Views
You may also like:
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
मेरी लेखनी
Anamika Singh
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
मेरे पापा
Anamika Singh
पिता
Saraswati Bajpai
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
If we could be together again...
Abhineet Mittal
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Nurse An Angel
Buddha Prakash
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...