Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

यारी

गुण अवगुण,
दोनों का हैं ये मेल।
कुंडली मिले बिना भी,
जीवन भर का हैं खेल।।
बंधन भी ऐसा,
जो कोई देख ना पाए।
चाहे कुछ भी करलो,
इस बंधन को कोई तोड़ ना पाए।।
बिना मिले भी,
वो हैं हर सुख दुःख में शामिल।
मेरे मौन को भी,
समझने में वो हैं काबिल।।
मुश्किल घडी में,
जब जब भी मैं हूँ घबराता।
पीछे हमेशा सिर्फ,
उसे ही हूँ पाता।।
ये ना हैं कोई 3G /4G /5G कनेक्शन,
जिसकी होती हैं डेली लिमिट और एक्सपायरी।
ये तो हैं सबसे ऊपर
लाइफटाइम की यारी ।।

डॉ. महेश कुमावत

1 Like · 37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ राज, राज रहने दो राज़दार।
कुछ राज, राज रहने दो राज़दार।
डॉ० रोहित कौशिक
मकड़जाल से धर्म के,
मकड़जाल से धर्म के,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शीर्षक - घुटन
शीर्षक - घुटन
Neeraj Agarwal
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
Anis Shah
अच्छे समय का
अच्छे समय का
Santosh Shrivastava
इतनी भी तकलीफ ना दो हमें ....
इतनी भी तकलीफ ना दो हमें ....
Umender kumar
"मेरी आवाज"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेमचंद ने ’जीवन में घृणा का महत्व’ लिखकर बताया कि क्यों हम
प्रेमचंद ने ’जीवन में घृणा का महत्व’ लिखकर बताया कि क्यों हम
Dr MusafiR BaithA
रूठकर के खुदसे
रूठकर के खुदसे
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
दिल का तुमसे सवाल
दिल का तुमसे सवाल
Dr fauzia Naseem shad
उनको देखा तो हुआ,
उनको देखा तो हुआ,
sushil sarna
"" *जब तुम हमें मिले* ""
सुनीलानंद महंत
*Keep Going*
*Keep Going*
Poonam Matia
" प्रिये की प्रतीक्षा "
DrLakshman Jha Parimal
हर इंसान होशियार और समझदार है
हर इंसान होशियार और समझदार है
पूर्वार्थ
*मिलता जीवन में वही, जैसा भाग्य-प्रधान (कुंडलिया)*
*मिलता जीवन में वही, जैसा भाग्य-प्रधान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
अँधेरे में नहीं दिखता
अँधेरे में नहीं दिखता
Anil Mishra Prahari
बाबुल का घर तू छोड़ चली
बाबुल का घर तू छोड़ चली
gurudeenverma198
डर
डर
अखिलेश 'अखिल'
।।
।।
*प्रणय प्रभात*
सोशलमीडिया
सोशलमीडिया
लक्ष्मी सिंह
ज़िन्दगी में किसी बड़ी उपलब्धि प्राप्त करने के लिए
ज़िन्दगी में किसी बड़ी उपलब्धि प्राप्त करने के लिए
Paras Nath Jha
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रिश्ता चाहे जो भी हो,
रिश्ता चाहे जो भी हो,
शेखर सिंह
आशा की किरण
आशा की किरण
Nanki Patre
संसार में
संसार में
Brijpal Singh
वो बातें
वो बातें
Shyam Sundar Subramanian
इंसान
इंसान
विजय कुमार अग्रवाल
सजाता हूँ मिटाता हूँ टशन सपने सदा देखूँ
सजाता हूँ मिटाता हूँ टशन सपने सदा देखूँ
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...