Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 24, 2022 · 1 min read

‘याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से’

हर पहर जीवन की सरगम साधते से,
याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से ।

बरस उनके बिन गये रीते सभी,
मधुर लम्हें मन से ना बीते कभी,
पल रूलाते हैं अभी तक हादसे से..
याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से ।।

ब्याह गुड्डे और गुड़ियों का कराना,
ह्रदय से मुझको लगा आँसू छुपाना,
हाथ में आशीष भर-भर काॅंपते से..
याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से ।।

सोच कब पाई थी यूँ बिछड़ूॅंगीं उनसे,
शून्यता मन की सदा बाॅंटी थी जिनसे,
हर कदम जीवन की साॅंसे बाँधते से,
याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से।।

चढ़ के कंधे पर मेरा कुछ गुनगुनाना,
बंदिशों–लय–ताल संग उनका वो गाना,
थे दरीचे भी समां तब बाँधते से,
याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से।।

स्वप्न था उनका मुझे शिक्षित बनाना,
सीख दी पथ–सत्य से ना डगमगाना,
ईश से अनगिन दुआ वो माँगते से,
याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से।।

स्वरचित
रश्मि लहर,
लखनऊ

10 Likes · 16 Comments · 318 Views
You may also like:
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
खुदा चाहे तो।
Taj Mohammad
विसर्जन
Saraswati Bajpai
तू है तेरे अन्दर।
Taj Mohammad
Nurse An Angel
Buddha Prakash
बुद्धिजीवियों के आईने में गाँधी-जिन्ना सम्बन्ध
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आया सावन - पावन सुहवान
Rj Anand Prajapati
" PILLARS OF FRIENDSHIP "
DrLakshman Jha Parimal
चम्पा पुष्प से भ्रमर क्यों दूर रहता है
Subhash Singhai
*दही (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
दिल लगाऊं कहां
Kavita Chouhan
कुछ तो बोल
Harshvardhan "आवारा"
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आयेगी मौत तो
Dr fauzia Naseem shad
एक शख्स ही ऐसा होता है
Krishan Singh
✍️दिल में ही रहता हूं✍️
'अशांत' शेखर
दुर्गावती:अमर्त्य विरांगना
दीपक झा रुद्रा
✍️एक कन्हैयालाल✍️
'अशांत' शेखर
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
आपकी याद को कहां रख दें
Dr fauzia Naseem shad
रूबरू होकर जमाने से .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
ऐ दिल सब्र कर।
Taj Mohammad
में और मेरी बुढ़िया
Ram Krishan Rastogi
आओ मिलकर वृक्ष लगाएँ
Utsav Kumar Aarya
आज के ख़्वाब ने मुझसे पूछा
Vivek Pandey
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
✍️आप क्यूँ लिखते है ?✍️
'अशांत' शेखर
Loading...