Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Apr 2022 · 1 min read

‘याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से’

हर पहर जीवन की सरगम साधते से,
याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से ।

बरस उनके बिन गये रीते सभी,
मधुर लम्हें मन से ना बीते कभी,
पल रूलाते हैं अभी तक हादसे से..
याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से ।।

ब्याह गुड्डे और गुड़ियों का कराना,
ह्रदय से मुझको लगा आँसू छुपाना,
हाथ में आशीष भर-भर काॅंपते से..
याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से ।।

सोच कब पाई थी यूँ बिछड़ूॅंगीं उनसे,
शून्यता मन की सदा बाॅंटी थी जिनसे,
हर कदम जीवन की साॅंसे बाँधते से,
याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से।।

चढ़ के कंधे पर मेरा कुछ गुनगुनाना,
बंदिशों–लय–ताल संग उनका वो गाना,
थे दरीचे भी समां तब बाँधते से,
याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से।।

स्वप्न था उनका मुझे शिक्षित बनाना,
सीख दी पथ–सत्य से ना डगमगाना,
ईश से अनगिन दुआ वो माँगते से,
याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से।।

स्वरचित
रश्मि लहर,
लखनऊ

Language: Hindi
Tag: कविता
10 Likes · 17 Comments · 525 Views
You may also like:
🙏माता ब्रह्मचारिणी🙏
पंकज कुमार कर्ण
मध्यप्रदेश पर कुण्डलियाँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इक दिल के दो टुकड़े
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
सरकार और नेता कैसे होने चाहिए
Ram Krishan Rastogi
झुकी नज़रों से महफिल में सदा दीदार करता है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जो अपने अज़्म की
Dr fauzia Naseem shad
विश्वासघात
Mamta Singh Devaa
सुनो
shabina. Naaz
#खुद से बातें...
Seema 'Tu hai na'
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आज काल के नेता और उनके बेटा
Harsh Richhariya
राहों के कांटे हटाते ही रहें।
सत्य कुमार प्रेमी
क़ौल ( प्रण )
Shyam Sundar Subramanian
✍️कल और आज
'अशांत' शेखर
इससे बड़ा हादसा क्या
कवि दीपक बवेजा
ख़ामुश हुई ख़्वाहिशें - नज़्म
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
श्याम घनाक्षरी
सूर्यकांत द्विवेदी
मिथ्या मार्ग का फल
AMRESH KUMAR VERMA
भारतवर्ष
Utsav Kumar Aarya
बहुजन पत्रकार
Shekhar Chandra Mitra
जिंदगी यूं ही गुजार दूं।
Taj Mohammad
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
अश्रुपात्र A glass of years भाग 6 और 7
Dr. Meenakshi Sharma
ख्वाहिश
Anamika Singh
“अवसर” खोजें, पहचाने और लाभ उठायें
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
गुमनाम ही रहने दो
VINOD KUMAR CHAUHAN
*प्रभु नाम से जी को चुराते रहे (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
उड़ जाएगा एक दिन पंछी, धुआं धुआं हो जाएगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️कैसी खुशनसीबी ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loading...