Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 30, 2022 · 1 min read

याद पर लिखे अशआर

आपकी याद तो नहीं लेकिन ।
कोई पिघला है दर्द आँखों से ।।

एक दर्द-ए-एहसास जिसे कह न पाऊं कहीं ।
गुज़रते वक़्त की मानिंद गुज़र न जाऊं कहीं ।।

ज़िंदगी तुझसे यहाँ कौन कटा होता है ।
दर्द हर सांस के हिस्से में बंटा होता है ।।

ज़ख़्म नासूर करके रखते हैं ।
दर्द की हम दवा नहीं करते ।।

इनका एहसास खूब होता है ।
दर्द इतने बुरे नहीं होते ।।

ज़ख़्म गहरा सा कोई दे जाओ ।
दर्द में अब मज़ा नहीं आता ।।

जब भी सोचेंगे उसको जीने की ।
ज़िंदगी दर्द का मज़ा देगी ।।

दर्द इसका समझ नहीं सकते ।
खो दिया हमने कितने अपनों को ।।

जैसा हैं हम अंदर से उसे वैसा ही दिखाना ।
मुश्किल है बहुत दर्द की तस्वीर बनाना ।।

दर्द शिद्दत को पार कर आया ।
इश्क़ रोया जो आज सीने में ।।

दर्द को राहतें नहीं मिलती ।
लफ़्ज़ एहसास जब सिमट जाए ।।

ज़िंदगी का कोई लम्हा न कभी तुझपे भारी गुज़रे ।
तेरे हर दर्द से कह दूंगी मुझसे होकर गुज़रे ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

7 Likes · 1 Comment · 66 Views
You may also like:
देखा जो हुस्ने यार तो दिल भी मचल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
भ्राजक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
फोन
Kanchan Khanna
पिता
KAMAL THAKUR
👌स्वयंभू सर्वशक्तिमान👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मंजिल की उड़ान पुस्तक
AMRESH KUMAR VERMA
✍️मै कहाँ थक गया हूँ..✍️
'अशांत' शेखर
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
*एक अच्छी स्वातंत्र्य अमृत स्मारिका*
Ravi Prakash
'जिंदगी'
Godambari Negi
✍️हम बगावत हो जायेंगे✍️
'अशांत' शेखर
दर्द को गर
Dr fauzia Naseem shad
अपना दिल
Dr fauzia Naseem shad
भूल कैसे हमें
Dr fauzia Naseem shad
किताब।
Amber Srivastava
मेहमान बनकर आए और दुश्मन बन गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
✍️आईने लापता मिले✍️
'अशांत' शेखर
✍️आदत और हुनर✍️
'अशांत' शेखर
कहानी *"ममता"* पार्ट-4 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
न्याय सम्राट अशोक का
AJAY AMITABH SUMAN
कलम
Dr Meenu Poonia
✍️✍️पराये दर्द✍️✍️
'अशांत' शेखर
इस दौर में
Dr fauzia Naseem shad
रसिया यूक्रेन युद्ध विभीषिका
Ram Krishan Rastogi
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
थक गये हैं कदम अब चलेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
Loading...