Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2022 · 2 min read

याद तेरी फिर आई है

सावन का मौसम आया है,
घटा छाई है घनघोर गगन में।
बारिश बरस रही है रिमझिम ।
बादल अपनी मोती की बुँदे,
गिरा रहा है आँगन-आँगन ।
बादल को देखो धरती से है,
अपना प्यार जताने मे है मगन।
मोती जैसी बुँदो से अपने,
सजा रहा है धरती का दामन।
अपनी प्यार की बुँदों से वह,
धरती की प्यास बुझा रहा है ।
देखकर ऐसा मौसम सुहाना,
ओ मेरे साथिया,
आज याद तेरी फिर आई है।

सावन के इस शीतल हवा संग,
धरती आज लहरा रही है।
ओढ कर आज हरी चुनरियाँ,
बड़ी मन भावन लग रही है।
देखकर उसके इस मन भावन रूप को,
मेरा मन भी बहका जा रहा है।
देखकर ऐसा मौसम सुहाना
ओ मेरे साथियाँ,
आज याद तेरी फिर आई है।

धरती पर देखो आज साथिया,
चारों तरफ फूल खिल गए है।
हर एक उपवन फूलों से,
आज हरे-भरे हो गए हैं।
बादल को रिझाने के लिए धरती
आज कितनी सुंदर दिख रही है।
देखकर ऐसा मौसम सुहाना ,
ओ मेरे साथिया,
आज याद तेरी फिर आई है।

आसमान मे इन्द्रधनुष आज,
रंग-बिरंगी छटा बिखेर रहा है।
रंग-बिरंगी इस छटा से,
आसमान भी खुश दिख रहा है।
धरती भी सोंधी सी खुशबू,
चारों तरफ फैला रही है।
देखकर ऐसा मौसम सुहाना,
ओ मेरे साथिया,
आज याद तेरी फिर आई है।

देखो कोयल ने भी अपना,
प्यार का ताना छेड़ा है आज।
मन भावन मौसम को देखकर,
बड़ी मीठी बोल रही है आज।
देखकर आज मौसम सुहाना,
मोरनी नाच रही है मोर के संग।
मदहोश होकर आज,
देखकर ऐसा मौसम सुहाना ,
ओ मेरे साथिया,
आज याद तेरी फिर आई है।

देखकर इस सुहाने मौसम को,
दिल ने मेरा आज तेरा साथ मांगा है।
तेरे बाहों में लिपटकर उसने,
मौसम का आनंद चाहा है।
ऐसे में तेरा यहाँ होना,
बड़ा ही लाजिमी है।
कैसे समझाऊँ मैं इस दिल को,
जो आज मेरे कहने में नही है।
देखकर ऐसा मौसम सुहाना,
ओ मेरे साथिया,
आज याद तेरी फिर आई है।

अनामिका

7 Likes · 14 Comments · 308 Views
You may also like:
ऐ वक्त ठहर जा जरा सा
Sandeep Albela
सावधान हो जाओ, मुफ्त रेवड़ियां बांटने बालों
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गं गणपत्ये! जय कमले!
श्री रमण 'श्रीपद्'
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
कर्ण और दुर्योधन की पहली मुलाकात
AJAY AMITABH SUMAN
ना तख्त होई
Shekhar Chandra Mitra
मेरा अक्स तो आब है।
Taj Mohammad
अजीब कशमकश
Anjana Jain
How long or is this "Forever?"
Manisha Manjari
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कहां है
विशाल शुक्ल
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️दरबदर भटकते रहा..
'अशांत' शेखर
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
शोहरत और बंदर
सूर्यकांत द्विवेदी
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
"अकेला काफी है तू"
कवि दीपक बवेजा
बेटी....
Chandra Prakash Patel
जिंदगी की रेस
DESH RAJ
हास्य कथा : ताले की खरीद-प्रक्रिया
Ravi Prakash
गरीबी तमाशा बना
Dr fauzia Naseem shad
मन के गाँव
Anamika Singh
वो मां थी जो आशीष देती रही।
सत्य कुमार प्रेमी
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
पोहा पर हूँ लिख रहा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
उम्मीद
Harshvardhan "आवारा"
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...