Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jun 2022 · 1 min read

“याद आओगे”

“याद आओगे”
!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

अरे याद करो….
कभी हम अच्छे
दोस्त हुआ करते थे !
किनारा तूने कर लिया ,
ज़ख़्म हृदय में भर दिया !
कहाॅं कोई ग़लती थी मेरी….
ये जानने की कोशिश तक न की!!

दर्द अपने दिल के बाॅंटते थे….
सुख दुःख के साथी हम होते थे ,
ज़रूरत में परस्पर काम आते थे ,
एक दूसरे का हाल-चाल पूछते थे ,
ना जाने किसकी बुरी नज़र लग गई !
कड़क बिजली बनकर हमपे गिर गई !
हम दोनों की राहें कितनी जुदा हो गई!!

पर उन लम्हों को ज़रा जी लें….
उन सुहानी सी यादों को संजो लें….
ऐसे खूबसूरत पल बार-बार कहाॅं आते !
एक बार जो जी लिए वे लम्हे गुज़र जाते !
सच्चे दोस्त कोई मुश्किल से ही मिल पाते !
कई तो दोस्ती से सिर्फ़ हासिल करना चाहते…
ऐ दोस्त, भले ही तुम दूर इस दिल से चले गए ,
पर सदैव यादों में आओगे, हॅंसाओगे, रुलाओगे !
सपनों में आके ख़्वाब मेरे सजाओगे,याद आओगे !
सचमुच,सालों तक इस नाज़ुक दिल को धड़काओगे !
ऐ दोस्त, यकीन करो मुझपे… तुम बहुत याद आओगे!!

( स्वरचित एवं मौलिक )
@सर्वाधिकार सुरक्षित ।

© अजित कुमार “कर्ण” ✍️✍️
~ कटिहार ( बिहार )
दिनांक :- 26 / 06 / 2022.
_______________________________________

Language: Hindi
Tag: कविता
6 Likes · 2 Comments · 347 Views
You may also like:
|| महाराणा प्रताप सिंह ||
Pravesh Shinde
जब मुझे याद कुछ नहीं रहता
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हारी बात
सिद्धार्थ गोरखपुरी
🌴🌺तुम्हारे चेहरे पर कमल खिला देखा मैंने🌺🌴
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हकीकत
पीयूष धामी
खूबसूरत है तेरा
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
दीपावली का उत्सव
AMRESH KUMAR VERMA
মিথিলা অক্ষর
DrLakshman Jha Parimal
जिद्दी परिंदा 'फौजी'
Seema 'Tu hai na'
अंतरराष्ट्रीय मित्रता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
डूब जाता हूँ
Varun Singh Gautam
■ मौजूदा हाल....
*Author प्रणय प्रभात*
उन्हें नहीं मालूम
Brijpal Singh
*उल्टा चोर कोतवाल को डाँटे (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
यूं ही नहीं इंजीनियर कहलाते हैं
kumar Deepak "Mani"
देख करके फूल उनको
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
Rain (wo baarish ki yaadein)
Nupur Pathak
ब्राउनी (पिटबुल डॉग) की पीड़ा
ओनिका सेतिया 'अनु '
राधा
सूर्यकांत द्विवेदी
मुकबल ख्वाब करने हैं......
कवि दीपक बवेजा
★सफर ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
जब भी ज़िक्र आया तेरा फंसानें में।
Taj Mohammad
ना रहा यकीन तुझपे
gurudeenverma198
नया जमाना
Satish Srijan
भारतीय महीलाओं का महापर्व हरितालिका तीज है।
आचार्य श्रीराम पाण्डेय
एकता में बल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️चाबी का एक खिलौना✍️
'अशांत' शेखर
सच
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
* आडे तिरछे अनुप्राण *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क़लम के फ़नकार
Shekhar Chandra Mitra
Loading...