Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 1, 2022 · 1 min read

यादों की साजिशें

कतरा कतरा कर वो यादें डराती हैं।
जब भी ये हवाऐं वेग में गाती हैं,
वो हंसी झंकार सी गूँज जाती है।
कभी कभी ये हवाऐं ठहर सी जाती हैं,
सारी की सारी हलचल साथ ले जाती है।
यादों के धागों में गाँठ बंध जाती हैं।
फ़िर इक दिन पत्तों की सरसराहट नींद से जगाती है,
और यादों की साजिशें रंग लाती हैं।
कभी कभी ये हवाएँ वैरागी भी बन जाती हैं,
हर तरफ़ मौन का आवरण फैलाती हैं।
साँसों की गति धीमी हो जाती है,
और तुम्हारे चले जाने का संदेशा सुनाती हैं।
बस उसी क्षण सूरज की किरणें समुंदर से टकराती हैं,
और तेरी यादों के साग़र में हलचल सी मच जाती है।

1 Like · 2 Comments · 175 Views
You may also like:
✍️✍️लफ्ज़✍️✍️
"अशांत" शेखर
ईश्वरीय फरिश्ता पिता
AMRESH KUMAR VERMA
“ माँ गंगा ”
DESH RAJ
संघर्ष
Anamika Singh
"सुकून"
Lohit Tamta
कर्म-पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बस करो अब मत तड़फाओ ना
Krishan Singh
दीपावली,प्यार का अमृत, प्यार से दिल में, प्यार के अंदर...
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
हिम्मत न हारों
Anamika Singh
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
मेरे दिल को जख्मी तेरी यादों ने बार बार किया
Krishan Singh
भारत रत्न श्री नानाजी देशमुख ********
Ravi Prakash
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
In love, its never too late, or is it?
Abhineet Mittal
*!* सोच नहीं कमजोर है तू *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सम्मान की निर्वस्त्रता
Manisha Manjari
बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पानी का दर्द
Anamika Singh
त्याग की परिणति - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मां की दुआ है।
Taj Mohammad
राहतें ना थी।
Taj Mohammad
"बेरोजगारी"
पंकज कुमार "कर्ण"
मुक्तक
Ranjeet Kumar
रूह को कैसे सजाओगे।
Taj Mohammad
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
गंगा माँ
Anamika Singh
कल्पना
Anamika Singh
लता मंगेशकर
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...