Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 11, 2021 · 1 min read

-यादों की याद

यादें जब तुम्हारी याद आती है,
तो कभी दिमाग का फ्यूजन उड़ा जाती है
कभी सारे तन में सिरहन हो जाती है
अनायास खट्टे-मीठे अनुभव की महक लाती है
तो कभी अच्छे-बुरे के एहसास से लिपटा जाती है
बरबस कभी आंखों से बारिश लाती है
कभी कटु बातों की यादें कांटे सी चुभ जाती है
उर में सोई पीड़ा को फिर से जगाती हैं
कभी मधुर स्मृति की यादें ताजा हो जाती है
मक्खन बन दिल को पिघला जाती है
यादें उर के कोनों को चिकना कर जाती है
दिल की राह पर फिर से रिपटन हो जाती है
यादें जब तुम आओ, बता कर नहीं आती है
सलिल बन चुपचाप क्यों बह नहीं जाती हैं
यादें जब तुम्हारी याद आती है
क्यों जीवन में हलचल मच जाती है।।
– सीमा गुप्ता, अलवर

3 Likes · 1 Comment · 230 Views
You may also like:
खुद को न मिटने दो
Anamika Singh
✍️औरत हूँ ✍️
"अशांत" शेखर
✍️"सूरज"और "पिता"✍️
"अशांत" शेखर
माँ तेरी जैसी कोई नही।
Anamika Singh
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कोहिनूर
Dr.sima
मां शारदे
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
🌺🌺Kill your sorrows with your willpower🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सावन आया आई बहार
Anamika Singh
मौलिक विचार
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
शिव शम्भु
Anamika Singh
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
प्रेम
श्याम सिंह बिष्ट
मेरी इस बर्बादी में।
Taj Mohammad
हमने हंसना चाहा।
Taj Mohammad
“ फेसबुक क प्रणम्य देवता ”
DrLakshman Jha Parimal
" कोरोना "
Dr Meenu Poonia
✍️✍️चुभन✍️✍️
"अशांत" शेखर
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
🌺🌻प्रेमस्य आनन्द: प्रतिक्षणं वर्धमानम्🌻🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
श्री गंगा दशहरा द्वार पत्र (उत्तराखंड परंपरा )
श्याम सिंह बिष्ट
✍️अभी उलझे नहीं✍️
"अशांत" शेखर
बुंदेली हाइकु- (राजीव नामदेव राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
आईना हूं सब सच ही बताऊंगा।
Taj Mohammad
!! ये पत्थर नहीं दिल है मेरा !!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
" सिर का ताज हेलमेट"
Dr Meenu Poonia
✍️दिल बहल जाता है।✍️
"अशांत" शेखर
फरिश्ता बन गए हो।
Taj Mohammad
Loading...