Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 8, 2022 · 1 min read

यादों की गठरी

समय का पहिया घूमा ऐसा, घूमी मन की चकरी मेरी।
खुलकर बिखर गई सामने, धूमिल यादों की गठरी मेरी।

ठंड बहुत थी मैं छोटी थी, अँगीठी सुलगा, देकर ताप,
पापा ने फिर से जिला दिया, बनी पड़ी थी ठठरी मेरी।

पापा बेटी गुनगुनी धूप में, ईख चूसते, मटर छीलते,
मुँहभर छोटा रसीला दाना, छाँटू नरम मटरी मेरी।

दीवाली दीए-पाली से पूजा, मैं पूछती पापा से तब,
भाई भरते खील थे, ऐसी कहो, कहाँ है हटरी मेरी?

इमरती-पुए मलिक स्वीट्स के, कनॉट प्लेस पापा ले जाते,
आलू छोड़, पपड़ी चट कर, समोसे की सब मठरी मेरी।

मेले सब जाएँ पैयाँ-पैयाँ, पापा के कंधे मेरा आसन,
इतराता बचपन सलोना, रहूँ ठाठ से अटरी मेरी।

पापा की लाडो, शहज़ादी, अकड़ थी दूनी, बड़ी बातूनी,
माँ कहें लड़ोकी, कभी लड़ाका, न बैठ किसी से पटरी मेरी।

यादों की गाँठों को खोलते, याद बहुत तुम आए पापा,
नहीं सबर हुआ बरस में, भीतर रो-रोके कट री मेरी।

– डॉ. आरती ‘लोकेश’
-दुबई, यू.ए.ई.

5 Likes · 3 Comments · 112 Views
You may also like:
मेंढक और ऊँट
सूर्यकांत द्विवेदी
" कोरोना "
Dr Meenu Poonia
मुस्कुराहट का नाम है जिन्दगी
Anamika Singh
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण
💐💐तुमसे दिल लगाना रास आ गया है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️✍️पराये दर्द✍️✍️
"अशांत" शेखर
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
My dear Mother.
Taj Mohammad
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण
# हमको नेता अब नवल मिले .....
Chinta netam " मन "
कच्चे आम
Prabhat Ranjan
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
आप से हैं गुज़ारिश हमारी.... 
Dr. Alpa H. Amin
तेरी सूरत
DESH RAJ
जमीं से आसमान तक।
Taj Mohammad
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
*देखने लायक नैनीताल (गीत)*
Ravi Prakash
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
मैं आज की बेटी हूं।
Taj Mohammad
मानव तू हाड़ मांस का।
Taj Mohammad
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🌺🍀सुखं इच्छाकर्तारं कदापि शान्ति: न मिलति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
✍️इंतज़ार के पल✍️
"अशांत" शेखर
" tyranny of oppression "
DESH RAJ
आपातकाल
Shriyansh Gupta
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
Loading...