Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 30, 2021 · 1 min read

यादों का कारवाँ

फूलों की
एक बहार सा
यादों का कारवाँ
चल रहा संग मेरे
दिन रात
सुबह शाम
एक यादों की सौगात सा
मेरे साये सा
मेरी परछाई सा
मेरे सिर पर
सेहरा बांधकर
मेरी बारात सा
गले में पड़े
मोतियों के हार सा
हाथों में जड़े
कंगन के प्यार सा
दिल में धड़कता है
एक मधुबन में
राधा कृष्ण के रास सा
मेरे गले की सुरंग
अंग अंग में बजता है
एक मधुर धुन के
राग सा
मैं एक पल भी
इसके बिना जी न पाऊं
मेरी सांसो की लय में
बह रहा
यह जीवन की धार सा
मेरा किनारा यह
मेरा सहारा यह
मेरे जीवन की नैय्या खेता
मुझे मझधार से निकालता
मेरा माझी
मेरा ईश्वर यह।

मीनल
सुपुत्री श्री प्रमोद कुमार
इंडियन डाईकास्टिंग इंडस्ट्रीज
सासनी गेट, आगरा रोड
अलीगढ़ (उ.प्र.) – 202001

1 Like · 221 Views
You may also like:
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
शेर
dks.lhp
बरसात
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️अपना ही सवाल✍️
"अशांत" शेखर
साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
इंतजार मत करना
Rakesh Pathak Kathara
#मजबूरिया
Dalveer Singh
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दरिया
Anamika Singh
तू एक बार लडका बनकर देख
Abhishek Upadhyay
नुमाइशों का दौर है।
Taj Mohammad
आ तुझको तुझ से चुरा लू
Ram Krishan Rastogi
नई तकदीर
मनोज कर्ण
मोहब्बत की बातें।
Taj Mohammad
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
डाक्टर भी नहीं दवा देंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
संघर्ष
Anamika Singh
सुविचारों का स्वागत है
नवीन जोशी 'नवल'
चेहरा
शिव प्रताप लोधी
✍️करम✍️
"अशांत" शेखर
जुल्म
AMRESH KUMAR VERMA
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
✍️शाम की तन्हाई✍️
"अशांत" शेखर
जनसंख्या नियंत्रण कानून कब ?
Deepak Kohli
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
जिन्दगी को साज दे रहा है।
Taj Mohammad
करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...