Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Aug 2023 · 1 min read

यादें…

सच कहते हैं सब
जाने वाले
लौट के आते हैं कब
आती है तो उनकी यादें
यादें भी इतनी सारी
के यादें सही न जाए
आए और बेचैन कर जाए
कोई मुझे उनका पता दे
ख्वाबों में मुझसे उन्हें मिला दे
बस एक बार
पूछने का मौका तो दे
बस उस वक्त कि
वह मुझे तड़प सुना दे
बेचैन रहती हूं मैं हर पल
बस यही सोचकर हर दम
की आखिरी सांस में उन्होंने हमें
पुकारा तो नहीं था
अगर हां!
तो एक मुलाकात करा दे
अब जिया नहीं जाता
यादों के सहारे
यादों में ही सही ए खुदा
उनसे मेरी बात करा दे।

हरमिंदर कौर
अमरोहा (यूपी )
मौलिक रचना

2 Likes · 114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*जो अपना छोड़‌कर सब-कुछ, चली ससुराल जाती हैं (हिंदी गजल/गीतिका)*
*जो अपना छोड़‌कर सब-कुछ, चली ससुराल जाती हैं (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
मुक्तक... छंद हंसगति
मुक्तक... छंद हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
आता है उनको मजा क्या
आता है उनको मजा क्या
gurudeenverma198
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
Aruna Dogra Sharma
"मैं और तू"
Dr. Kishan tandon kranti
बुंदेली दोहा -तर
बुंदेली दोहा -तर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ना समझ आया
ना समझ आया
Dinesh Kumar Gangwar
बहती नदी का करिश्मा देखो,
बहती नदी का करिश्मा देखो,
Buddha Prakash
ना मुराद फरीदाबाद
ना मुराद फरीदाबाद
ओनिका सेतिया 'अनु '
#शुभ_दीपोत्सव
#शुभ_दीपोत्सव
*प्रणय प्रभात*
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
गलत रास्ते, गलत रिश्ते, गलत परिस्तिथिया और गलत अनुभव जरूरी ह
गलत रास्ते, गलत रिश्ते, गलत परिस्तिथिया और गलत अनुभव जरूरी ह
पूर्वार्थ
आगे हमेशा बढ़ें हम
आगे हमेशा बढ़ें हम
surenderpal vaidya
चांद भी आज ख़ूब इतराया होगा यूं ख़ुद पर,
चांद भी आज ख़ूब इतराया होगा यूं ख़ुद पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
करो तारीफ़ खुलकर तुम लगे दम बात में जिसकी
करो तारीफ़ खुलकर तुम लगे दम बात में जिसकी
आर.एस. 'प्रीतम'
कुछ लोग अच्छे होते है,
कुछ लोग अच्छे होते है,
Umender kumar
तेरा एहसास
तेरा एहसास
Dr fauzia Naseem shad
मुक्तक
मुक्तक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
आपकी आहुति और देशहित
आपकी आहुति और देशहित
Mahender Singh
उपहार उसी को
उपहार उसी को
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
Keshav kishor Kumar
कब बरसोगे बदरा
कब बरसोगे बदरा
Slok maurya "umang"
" मेरे प्यारे बच्चे "
Dr Meenu Poonia
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
SPK Sachin Lodhi
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
सावन महिना
सावन महिना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
वर्ण पिरामिड विधा
वर्ण पिरामिड विधा
Pratibha Pandey
"नंगे पाँव"
Pushpraj Anant
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
Loading...