Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 28, 2021 · 1 min read

‘ यादें और बारिश ‘

बचपन की बरसात मजेदार होती थी
सर से लेकर पैरों तक सराबोर होती थी ,

धीरे – धीरे हम बड़े होने लगे
बरसात में थोड़े – थोड़े गीले होने लगे ,

वयस्क होने पर इसका आनंद कभी कभार लेते
पढ़ने की चिंता में प्यारी बरसात को नकार देते ,

बरसात तब भी होती जब ऑफिस जान लगे
ऑफिस की खिड़की से उसको ताकने लगे ,

जब एक से दो हुये बरसात नजर आने लगी
जिसको भूल बैठे थे अब ज़हन में छाने लगी ,

जिम्मेदारियों के साथ बरसात पुरानी हो गई
हम कभी भीगते थे ये बीती कहानी बन गई ,

अब दवाईयाँ लेने भी छतरी साथ ले जाते हैं
बेवक्त बरसात ना हो जाये ये सोच घबड़ाते हैं ,

जीवन के इस पड़ाव पर दोनों साथ बैठते हैं
बरसात को इन आँखों की प्याली से पीते हैं ,

सुख तो बरसात का बस बचपन में आता था
भीगते हम थे गुस्से में बुखार माँ को आता था ।

स्वरचित , मौलिक एवं अप्रसारित
( ममता सिंह देवा , 28/05/2021 )

3 Likes · 6 Comments · 191 Views
You may also like:
दरों दीवार पर।
Taj Mohammad
💐"गीता= व्यवहारे परमार्थ च तत्वप्राप्ति: च"💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हर हाल में ख़ुदी को
Dr fauzia Naseem shad
अटल विश्वास दो
Saraswati Bajpai
मैं मेहनत हूँ
Anamika Singh
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
तुम्हारा खयाल आया है।
Taj Mohammad
#जातिबाद_बयाना
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
तो पिता भी आसमान है।
Taj Mohammad
जावेद कक्षा छः का छात्र कला के बल पर कई...
Shankar J aanjna
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️मुझे कातिब बनाया✍️
"अशांत" शेखर
*#गोलू_चिड़िया और #पिंकी (बाल कहानी)*
Ravi Prakash
कैसी भी हो शराब।
Taj Mohammad
🍀🌺परमात्मन: अंश: भवति तु स्वरूपे दोषः न🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
माँ
आकाश महेशपुरी
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
प्यार करके।
Taj Mohammad
डरता हूं
dks.lhp
तलाश
Dr. Rajeev Jain
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
✍️"हैप्पी बर्थ डे पापा"✍️
"अशांत" शेखर
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
पंछी हमारा मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
ऐतबार नहीं करना!
Mahesh Ojha
मैं मेरा परिवार और वो यादें...💐
लवकुश यादव "अज़ल"
कविता में मुहावरे
Ram Krishan Rastogi
किंकर्तव्यविमूढ़
Shyam Sundar Subramanian
Loading...