Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 6, 2019 · 1 min read

यादें

✍️कविता
गर्म चाय में उठती भाप,
गुड़,अदरक, लौंग की महक,
खयाल मात्र से,
एक नशा सा छा जाता,
तुम्हारे रूई से मुलायम,
सफेद बादल से बाल,
पहाड़ों पर रुकी बारिश,
अलसाया सा सूरज,
कानों को चीरती हुई,
ठंडी तीखी हवा,
छाती में सांसों को,
जमा देने वाली ठंड,
खुश्की से फटे सुर्ख गाल,
पैरों में रेंगती चींटियां,
और सूजी हुई अंगुलियां,
सुबह दूध के लिए,
गाय का रंभाना, और
बरतनों की खटर पटर,
घर्र घर्र चक्की की आवाज,
कुछ खो आया था मैं!
गांव की वो सर्द सुबह,
गुनगुनाती भजन,
और घंटी की आवाज,
धुंधलाए चश्मे को साफ करतीं,
तेरी यादों का सिलसिला,
हां मां! मेरी प्यारी मां!
तुम हरदम मेरी सांसों में बसी हो।
मेरी सांसे, जो रह गई हैं,
गांव में, और मैं बसा हूं,
यहां इमारतों के बेजान शहर में।

1 Like · 181 Views
You may also like:
आज़ादी का परचम
Rekha Drolia
पैसों से नेकियाँ बनाता है।
Taj Mohammad
“ स्वप्न मे भेंट भेलीह “ मिथिला माय “
DrLakshman Jha Parimal
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:38
AJAY AMITABH SUMAN
बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
✍️एक घना दश्त है✍️
'अशांत' शेखर
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
मुबारक हो।
Taj Mohammad
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कविता को बख्श दो कारोबार मत बनाओ।
सत्य कुमार प्रेमी
ज़िंदगी का सवाल होते हैं ।
Dr fauzia Naseem shad
✍️जिंदगी की सुबह✍️
'अशांत' शेखर
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
गर्दिशों की जिन्दगी है।
Taj Mohammad
सबूत
Dr.Priya Soni Khare
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
योग है अनमोल साधना
Anamika Singh
शम्मा ए इश्क़।
Taj Mohammad
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Alpa
✍️✍️पराये दर्द✍️✍️
'अशांत' शेखर
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit kumar
जय जय तिरंगा
gurudeenverma198
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
✍️मैं और वो..(??)✍️
'अशांत' शेखर
अगर तुम खुश हो।
Taj Mohammad
"हम्प्टी शर्मा की दुल्हनिया" के "अंगद" यानि सिद्धार्थ नहीं रहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
'धरती माँ'
Godambari Negi
पर्यावरण
Vijaykumar Gundal
समय के संग परिवर्तन
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...