Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 25, 2017 · 1 min read

यादें

तेरे आँचल का परिमल आता,

अब नींद नहीं मैं ले पाता।

कुछ याद तेरे संग पल बीता

कुछ चाहत को रख अब जीता।

पर बदन हुआ अब गम का घर

और जीने से लगता है डर।

जब बात कोई तेरी बतलाता,

आंखों मे सावन छा जाता।

तेरे आँचल———

अब नींद—–

तूं मेरी थी मैं तेरा था

अब फिर क्यूँ तू बेगानी

जिसका चेहरा हंसता दिखता

उसकी आंखों मे पानी है।

आंखों मे पावस का मौसम,

और काम मेरा अविराम रहा।

समझ नहीं आता चाहत का ये कैसा अंजाम रहा।

खुली आंख मे भी जब हम को स्वप्न तेरा है दिख जाता।

तेरे आँचल—–

अब नींद—–

जीवन है कांटो का जंगल,

मेरे दिल मे है कुछ बीता कल।

सब कुछ तो हम को याद नहीं

पर तेरी गोदी का कल।

मैं उस पल मे जब खो जाता

तो दुनिया कहती है पागल।

तेरी यादों से न जाना पागल कहलाने के भय से,

सच मे तूं मेरी कैदी है मैं रख्खा दिल देवालय में।

दिल देवालय में जब जाता।

तेरे आँचल—- अब नींद—–

कवि ओम सिंह फैजाबादी +917777921339

109 Views
You may also like:
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
अनामिका सिंह
पिता
Rajiv Vishal
लहरों का आलाप ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
और कितना धैर्य धरू
अनामिका सिंह
*#गोलू_चिड़िया और #पिंकी (बाल कहानी)*
Ravi Prakash
'सती'
Godambari Negi
*पार्क में योग (कहानी)*
Ravi Prakash
✍️एक ख़ता✍️
"अशांत" शेखर
✍️एक चूक...!✍️
"अशांत" शेखर
एकाकीपन
Rekha Drolia
दुआएं करेंगी असर धीरे- धीरे
Dr Archana Gupta
नियमित बनाम नियोजित(मरणशील बनाम प्रगतिशील)
Sahil
# पर_सनम_तुझे_क्या
D.k Math
स्थापना के 42 वर्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*आज बरसात है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जीने की वजह तो दे
Saraswati Bajpai
✍️इश्क़ के बीमार✍️
"अशांत" शेखर
ये जज़्बात कहां से लाते हो।
Taj Mohammad
"अरे ओ मानव"
Dr Meenu Poonia
Love Heart
Buddha Prakash
* तुम्हारा ऐहसास *
Dr. Alpa H. Amin
परशुराम कर्ण संवाद
Utsav Kumar Aarya
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
💐मौज़💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम भारत के लोग
Mahender Singh Hans
" परिवर्तनक बसात "
DrLakshman Jha Parimal
Listen carefully.
Taj Mohammad
एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
Loading...