Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2022 · 1 min read

यादें वो बचपन के

एक समय था जब पापा,
गुड़ियाँ लेकर आते थे
कहीं से आने पर आंखें उनकी
हमें ही ढूँढने लग जाते थे!!!

अगर मैं रूठ जाऊं कभी उनसे,
तो कितने प्यार से मनाते थे
अगर कभी पीटती मम्मी मुझको,
तो कैसे पापा हरदम बचाते थे!!!

अगर मुझे कुछ भी होता,
तब वह सीने से लगाते थे,
खुद झेलते कङी धूप-सर्दी को ,
पर मुझे सदा ही इससे बचाते थे!!!

सुना कर अपनी प्यारी बातें ,
कुछ ऐसे मुझे वो सुलाते थे,
सोती उस रात नींद सुकूँ के,
जब पापा घर को आते थे!!!

खुशबू खातून
सारण,बिहार

8 Likes · 4 Comments · 309 Views
You may also like:
स्वाधीनता आंदोलन में, मातृशक्ति ने परचम लहराया था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फोन
Kanchan Khanna
भारत माँ से प्यार
Swami Ganganiya
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वसंत का संदेश
Anamika Singh
अश्रुपात्र...A glass of tears भाग - 1
Dr. Meenakshi Sharma
प्रतीक्षित
Shiva Awasthi
"भीमसार"
Dushyant Kumar
*कर्जे को लेकर फिर न लौटाया ( हास्य व्यंग्य गीतिका...
Ravi Prakash
समय..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
पिता
लक्ष्मी सिंह
यूं रो कर ना विदा करो।
Taj Mohammad
'हरि नाम सुमर' (डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
जिसे पाया नहीं मैंने
Dr fauzia Naseem shad
व्यंग्य- प्रदूषण वाली दीवाली
जयति जैन 'नूतन'
ज़िन्दगी का रंग उतरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
काश
Harshvardhan "आवारा"
दिल की तमन्ना
अनूप अंबर
शुभ करवा चौथ
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
हास्य गजल
Sandeep Albela
माँ का एहसास
Buddha Prakash
ज्ञान की बात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️निर्माणाधीन रास्ते✍️
'अशांत' शेखर
लावा
Shekhar Chandra Mitra
- साहित्य मेरी जान -
bharat gehlot
🙏माता ब्रह्मचारिणी🙏
पंकज कुमार कर्ण
संसर्ग मुझमें
Varun Singh Gautam
हम रात भर यूहीं तरसते रहे
Ram Krishan Rastogi
गलती का समाधान----
सुनील कुमार
नफरत है मुझे
shabina. Naaz
Loading...