Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-356💐

यह सब नज़र का खेल है,सुन लो,
कोई किसी का नहीं है यहाँ सुन लो,
चन्द रुपयों को उधार लेके देखो सही,
ख़ुदगर्ज़,बेईमान ही बना देगा,सुन लो।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
80 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
सखी री आया फागुन मास
सखी री आया फागुन मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आदमखोर बना जहाँ,
आदमखोर बना जहाँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हुस्न वालों से ना पूछो गुरूर कितना है ।
हुस्न वालों से ना पूछो गुरूर कितना है ।
Prabhu Nath Chaturvedi
कोई भी रंग उस पर क्या चढ़ेगा..!
कोई भी रंग उस पर क्या चढ़ेगा..!
Ranjana Verma
देह खड़ी है
देह खड़ी है
Dr. Sunita Singh
*लोकतंत्र में होता है,मतदान एक त्यौहार (गीत)*
*लोकतंत्र में होता है,मतदान एक त्यौहार (गीत)*
Ravi Prakash
आधा किस्सा आधा फसाना रह गया
आधा किस्सा आधा फसाना रह गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Success is not final
Success is not final
Swati
खाटू श्याम जी
खाटू श्याम जी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरी अंतरात्मा..
मेरी अंतरात्मा..
Ms.Ankit Halke jha
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
अति आत्मविश्वास
अति आत्मविश्वास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कारण कोई बतायेगा
कारण कोई बतायेगा
Vijay kannauje
रंगे अमन
रंगे अमन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ लघुकथा / रेल की खिड़की
■ लघुकथा / रेल की खिड़की
*Author प्रणय प्रभात*
ये साँसे जब तक मुसलसल चलती है
ये साँसे जब तक मुसलसल चलती है
'अशांत' शेखर
मेरे भी थे कुछ ख्वाब,न जाने कैसे टूट गये।
मेरे भी थे कुछ ख्वाब,न जाने कैसे टूट गये।
Surinder blackpen
अपने
अपने
Shyam Sundar Subramanian
उस दिन पर लानत भेजता  हूं,
उस दिन पर लानत भेजता हूं,
Vishal babu (vishu)
प्यार के सिलसिले
प्यार के सिलसिले
Basant Bhagwan Roy
मानवता की चीखें
मानवता की चीखें
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम कौतुक-467💐
💐प्रेम कौतुक-467💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैकदे को जाता हूँ,
मैकदे को जाता हूँ,
Satish Srijan
शिक्षा मनुष्य के विकास की परवाह करता है,
शिक्षा मनुष्य के विकास की परवाह करता है,
Buddha Prakash
मुझको मेरा अगर पता मिलता
मुझको मेरा अगर पता मिलता
Dr fauzia Naseem shad
मंजिल तक पहुंचने
मंजिल तक पहुंचने
Rashmi Mishra
मुक्तक
मुक्तक
Rajkumar Bhatt
*उम्र के पड़ाव पर रिश्तों व समाज की जरूरत*
*उम्र के पड़ाव पर रिश्तों व समाज की जरूरत*
Anil chobisa
मेरी कलम
मेरी कलम
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
विमला महरिया मौज
Loading...