Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#7 Trending Author
Jul 25, 2016 · 1 min read

यह सच है

सच की आदत बहुत बुरी है
बात हमसे अापसे जुडी है
ख्याव पूरे न हो सभी के
दिल में तब टीस सी उठी है

हो गंदे काम जहाँ पर
बस्तियाँ मलिन भी वहाँ पर
आप हो इस समाज के जब
देख लो शीघ्र ही कहाँ पर

वेश्यावृति यहाँ पर नित्य होती
कौमार्यता रोज धर्म है खोती
कैसी है सामाजिक विडम्बना
आत्मा को निचोड़ कर पीती

कहाँ गई है इनकी मानवता
दिखा रहे है अपनी दानवता
सदाचार की परिभाषा काम
अहं चेतना की यह संहारता

कहते जो समाज के ठेकेदार
हो रहे वहीं आज तो सौदेगार
फिर कोन बचाए नरक से इन्हें
हो गये है जव यहाँ पर पहरेदार

71 Likes · 252 Views
You may also like:
" बहू और बेटी "
Dr Meenu Poonia
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
वक्त मलहम है।
Taj Mohammad
शम्मा ए इश्क।
Taj Mohammad
🍀🌺प्रेम की राह पर-43🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गज़ल
Saraswati Bajpai
चौपाई छंद में सौलह मात्राओं का सही गठन
Subhash Singhai
संकरण हो गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वर्षा
Vijaykumar Gundal
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
आखिरी कोशिश
AMRESH KUMAR VERMA
बहुत अच्छा लगता है ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️आव्हान✍️
"अशांत" शेखर
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेजुबां जीव
Jyoti Khari
प्रतीक्षा करना पड़ता।
Vijaykumar Gundal
बनकर कोयल काग
Jatashankar Prajapati
नूतन सद्आचार मिल गया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H. Amin
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
धीरता संग रखो धैर्य
Dr. Alpa H. Amin
✍️मेरी कलम...✍️
"अशांत" शेखर
रुक जा रे पवन रुक जा ।
Buddha Prakash
Loading...