Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2016 · 1 min read

यह सच है

सच की आदत बहुत बुरी है
बात हमसे अापसे जुडी है
ख्याव पूरे न हो सभी के
दिल में तब टीस सी उठी है

हो गंदे काम जहाँ पर
बस्तियाँ मलिन भी वहाँ पर
आप हो इस समाज के जब
देख लो शीघ्र ही कहाँ पर

वेश्यावृति यहाँ पर नित्य होती
कौमार्यता रोज धर्म है खोती
कैसी है सामाजिक विडम्बना
आत्मा को निचोड़ कर पीती

कहाँ गई है इनकी मानवता
दिखा रहे है अपनी दानवता
सदाचार की परिभाषा काम
अहं चेतना की यह संहारता

कहते जो समाज के ठेकेदार
हो रहे वहीं आज तो सौदेगार
फिर कोन बचाए नरक से इन्हें
हो गये है जव यहाँ पर पहरेदार

Language: Hindi
Tag: कविता
71 Likes · 382 Views
You may also like:
Book of the day: महादेवी के गद्य साहित्य का अध्ययन
Sahityapedia
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विश्व मजदूर दिवस पर दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️हर लड़की के दिल में ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
जिसके सीने में जिगर होता है।
Taj Mohammad
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव अदम्य
*तितली रानी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
पीड़ा भी मूक थी
Dr fauzia Naseem shad
आओ अब यशोदा के नन्द
शेख़ जाफ़र खान
मां
Umender kumar
जात-पात के आग
Shekhar Chandra Mitra
'नील गगन की छाँव'
Godambari Negi
कि राज दिल का उसको, कभी बता नहीं सके
gurudeenverma198
धीरे-धीरे तुम बढ़ चलो आसमां पे।
Buddha Prakash
धूल जिसकी चंदन है भाल पर सजाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रतीक्षा करना पड़ता।
विजय कुमार 'विजय'
तेरा आईना हो जाऊं
कवि दीपक बवेजा
*"आदिशक्ति जय माँ जगदम्बे"*
Shashi kala vyas
ग़ज़ल
Nityanand Vajpayee
पढ़ना और पढ़ाना है
kumar Deepak "Mani"
सच्चे दोस्त की ज़रूरत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
पंछी ने एक दिन उड़ जाना है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
" समय "
DrLakshman Jha Parimal
ह्रदय की व्यथा
Nitesh Kumar Srivastava
"अरे ओ मानव"
Dr Meenu Poonia
Rose
Seema 'Tu hai na'
Loading...